Home » HOME » वेंडर के हाथ से बहता रहा खून, लेकिन ‘जान पर खेल’ बचाई ट्रेन से गिरी मां-बच्ची की जान

वेंडर के हाथ से बहता रहा खून, लेकिन ‘जान पर खेल’ बचाई ट्रेन से गिरी मां-बच्ची की जान

Madhya Pradesh : Itarsi Railway station holiday special train vendor ramesh singh shera rescue mother and girl child save life
Sharing is Important

सौरभ दुबे | होशंगाबाद/इटारसी

प्लेटफॉर्म पर काम करने वाले एक वेंडर ने देश-दुनिया के सामने इंसानियत की एक मिसाल पेश कर लोगों का दिल जीत लिया है। स्टेशन से गुजर रही चलती ट्रेन से एक मां और उसकी मासूम बच्ची उतरने की कोशिश कर रही थी लेकिन अचानक उनका बैलेंस बिगड़ा और वे नीचें गिर गई। ये नजारा देख वेंडर ने आव देखा न ताव और महिला और बच्ची को बचाने के चक्कर में अपनी ही जान दांव पर लगा दी।

ये मामला मध्य प्रदेश के इटारसी रेलवे स्टेशन का है जहां बीती 18 मई शनिवार दोपहर प्लेटफार्म नंबर 7 से हॉलिडे स्पेशल ट्रेन 12158 कोयंबटूर एक्सप्रेस गुजर रही थी तभी अचानक एक परिवार चलती ट्रेन से उतरने की कोशिश करने लगा, लेकिन हड़बड़ी में उतरते वक्त महिला और उसकी बच्ची का बैलेंस बिगड़ गया और वे प्लेटफॉर्म पर गिर गई। घटना के समय मौजूद 55 वर्षीय वेंडर रमेश सिंह उर्फ शेरा ने अपनी जान पर खेलकर महिला एवं बच्ची को बचा लिया।

इस दौरान वेंडर रमेश सिंह का हाथ बुरी तरह जख्मी हो गया और उसमें से खून बहने लगा, लेकिन वेंडर शेरा ने हिम्मत नहीं हारी और बच्ची एवं उसकी मां को जान पर खेल बचा लिया। वेंडर के इस जज़्बे को देखते हुए वेस्ट सेंट्रल रेलवे मजदूर संघ और करुणोदय संस्था द्वारा सम्मानित किया गया। मजदूर संघ कार्यालय में एक सम्मान समारोह आयोजित कर वेंडर शेरा को प्रशस्ति पत्र, ट्रॉफी एवं एक हजार रुपए नगद पुरुस्कार देकर सम्मानित किया गया।

READ:  अभिव्यक्ति की आज़ादी पर मंड़राते ख़तरे को पहचानना ज़रूरी…!

कार्यक्रम की शुरुआत महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर की गई। इस अवसर पर मंडल कोषाध्यक्ष भूमेश माथुर, इंजीनियरिंग ब्रांच सचिव सरताज हुसैन, इंजीनियरिंग ब्रांच कोषाध्यक्ष अशोक दुबे, लोको ब्रांच संगठन सचिव संजय कैचे, सह सचिव संतोष चतुर्वेदी, रामस्वरूप मेहतो, करुणोदय संस्था अध्यक्ष दिनेश सिंह ने वेंडर रमेश सिंह का सम्मान किया। इस अवसर पर जगदीश डबरया ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ विषय पर काव्य पाठ किया।

कार्यक्रम में राजेश दुबे ने करुणोदय संस्था के कार्यों पर प्रकाश डाला एवं संस्था के प्रयासों की प्रशंसा की। बसंत गिरी गोस्वामी ने कहा कि ऐसे वेंडरों को सम्मान मिलने से समाज को प्रेरणा मिलती है। दिनेश श्रीवास ने कहा कि करुणोदय संस्था बच्चों एवं महिलाओं के लिए सराहनीय कार्य करती है। अशोक दुबे ने कहा कि वेंडरों के हितों के लिए हर संभव मदद करेंगे।

READ:  What's the controversy of Ramayan Express train?

भूमेश माथुर ने कहा कि संघ हर समय आपके साथ खड़ा है। करुणोदय संस्था के अध्यक्ष दिनेश सिंह ने कहा कि एक वेंडर को समाज से बहुत कम सम्मान मिलता है इसीलिए रमेश सिंह द्वारा बहादुरी का काम करने पर संस्था ने उनके सम्मान का निर्णय लिया।

कार्यक्रम का समापन राष्ट्र गान गाकर किया गया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से राजेश दुबे, जगदीश डबरया, ब्रजमोहन सोलंकी, दिनेश श्रीवास, बसंत गिरी गोस्वामी, भूरे सिंह, सुखबीर सिंह सहित गणमान्य नागरिक, रेलवे अधिकारी एवं स्टेशन पर काम करने वाले वेंडर उपस्थित रहे।