Chief Minister Shivraj Singh Chauhan's Secondary Education Board 2020 Examination "Stop Not Going" Scheme implemented

CM शिवराज का दावा, गरीबों को सस्ती बिजली, कंपनी ने एक ही उपभोक्ता को भेजा अरबों रुपए का बिल!

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Suyash Bhatt | Bhopal/Singrauli

मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना संकट काल में लोगों के बिजली बिलों में राहत देने की बात कही है। इस शिवराज सरकार के इस वादे पर अखबारों में विज्ञापन भी प्रकाशित किए जा रहे हैं। बिजली उपभोक्ताओं को 100 और 50 रुपए का बिल भेजा गया है। लेकिन बिजली विभाग के अधिकारी सरकार की योजनाओं में पलीता लगाने में तूले हुए हैं।

ऐसा ही मामला सामने आया है सिंगरौली में एक घरेलू उपभोक्ता के घर से। जहां बिजली विभाग की ओर से जो एक महीने का बिल भेजा गया है उसे सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे। यह बिल मध्यप्रदेश सरकार के 2 लाख करोड़ रुपए के बजट में से उद्योग जगत को दिए जाने वाले 840 करोड़ रुपए के बजट से कई गुना ज्यादा है।

ALSO READ:  महिला कलेक्टर ने पलटा शिवराज सरकार का फैसला, शराब की बिक्री पर 17 मई तक प्रतिबंध लगाया

जानकारी के अनुसार, सिंगरौली जिले के बैढ़न विद्युत वितरण केंद्र में घरेलू उपभोक्ता राम तिवारी, सेवानिवृत्त शिक्षक को 8 सौ खरब रुपए का बिल भेजा गया है। बिल की राशि इतनी ज्यादा है कि अपनी पूरी संपत्ति बेचकर भी उपभोक्ता उसका भुगतान नहीं कर सकता। बिल मिलने के बाद उपभोक्ता परेशान हैं और बिजली विभाग के अधिकारियों से न्याय दिलाने की मांग कर रहे हैं।

Image

इस बिजली बिल की एक फोटो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रही है। दरअसल, इस बिल में इतने शून्य हैं कि उपभोक्ता को गिनती करना मुश्किल हो रहा है कि कितना बिल आया है। हालांकि इसे विभाग की एक बड़ी लापरवाही माना जा रहा है और सोशल मीडिया पर लोग इसका मजाक उड़ा रहे हैं। लोगों का कहना है कि इतना बिल तो पूरे मध्य प्रदेश का नहीं हो सकता।

ALSO READ:  संसद में 'मोदी एंट्री' और अमित शाह के साथ 'बुलेट रैली' कर चुके वीडी शर्मा के बारे में 10 खास बातें

एक तरफ सरकार उपचुनाव से पहले लोगों के बिजली बिलों में राहत देने का दावा कर रही है। अखबारों में विज्ञापन दिए जा रहे हैं कि उपभोक्ताओं को 100 और 50 रुपए का बिल भेजा गया है, लेकिन दूसरी ओर सिंगरौली के इस घरेलू उपभोक्ता के बिल ने उनकी योजनाओं में पलीता लगा दिया। यह सरकार के कारिंदे की लापरवाही है या कहीं और चूक हुई है ये तो बाद की बात है लेकिन फिलहाल बेचारा उपभोक्ता विभाग के चक्कर लगाकर परेशान है तो आम लोग सोशल मीडिया पर इसका मजाक उड़ा रहे हैं।