Madhya Pradesh Election 2018: एक ट्वीट से सदमे में शिवराज, सता रहा हार का डर!

Madhya Pradesh assembly election 2018, Rajasthan assembly election 2018, Telangana assembly election 2018, Chhattisgarh assembly election 2018, Mizoram assembly election 2018, Shivraj, Kamalnath, Vasundhra, Narendra Modi, Amit Shah, BJP, Congress, Raman Singh
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भोपाल, 23 सिंतबर। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में राजनैतिक पार्टियां एक बार फिर जनता को लुभाने के लिए जनसंपर्क यात्रा पर निकल चुकी हैं। कांग्रेस और बीजेपी प्रदेश भर में जनसंपर्क यात्राएं कर रही हैं। वहीं बीएसपी और आम आदमी पार्टी भी मध्य प्रदेश में होने वाले चुनाव महाकुंभ में डोर टू डोर कैंपेनिंग कर रही है।

एक ओर जहां कांग्रेस बीजेपी पर व्यापम सहित अन्य घोटालों और भ्रष्टाचारु के आरोप लगा रही है, वहीं बीजेपी इस वक्त अपनी ही रणनीति में उलझती नजर आ रही है। मामला एससीएसटी एक्ट से जुड़ा है।

सवर्णों को खुश करने के लिए किए गए इस ट्वीट के बाद मानों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को दलित वोटर को छिटकने का डर सताने लगा हो। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक वीडियो में देखा जा सकता है कि इस मामले में जब उनसे पूछा गया कि क्या एसएसटी एक्ट में जांच के बाद गिरफ्तारी होगी। इसके बाद मुख्यमंत्री के चेहरे पर खिंची चिंता की लकीरों को साफ पड़ा जा सकता है।

इस मामले में किसान पुत्र शिवराज सिंह चौहान ने एक शब्द भी कहना मुनासिब नहीं समझा। शिवराज अपने ही चक्रव्यूह में फंसते नजर आ रहे हैं। सवाल का जवाब दिए बिना ही मुख्यमंत्री वापस लौट गए।

संवर्ण समाज को खुश करने के लिए किए गए ट्वीट के बाद अब मुख्यमंत्री को दलितों की नाराजगी का डर सता रहा है। शायद यही कारण है कि मुख्यमंत्री इस मामले में कुछ बोलने से बचते हुए नज़र आ रहे हैं।

बता दें कि 230 विधानसभा सीटों वाले मध्य प्रदेश में इस साल नवंबर के आखिरी सप्ताह या दिसंबर के पहले सप्ताह में चुनाव हो सकते हैं। अक्टूबर के पहले सप्ताह तक विभिन्न पार्टियां अपने-अपने उम्मीदवार घोषित कर सकती हैं।

ALSO READ:  Lok Sabha Election 2019: तो इन मुद्दों पर आमने-सामने होंगे PM मोदी और राहुल गांधी

Comments are closed.