Home » HOME » मुख्यमंत्री की शपथ लेते ही मध्य प्रदेश के किसानों का कर्ज़ माफ़ करेंगे कमलनाथ, लेकिन कैसे?

मुख्यमंत्री की शपथ लेते ही मध्य प्रदेश के किसानों का कर्ज़ माफ़ करेंगे कमलनाथ, लेकिन कैसे?

kisan kamalnath farmars loan waiver in madhya pradesh
Sharing is Important

कोमल बड़ोदेकर

भोपाल, 15 दिसंबर। मध्य प्रदेश में कांग्रेस 15 वर्षों के बाद सत्ता में आई है।  विधायक दल की बैठक और केन्द्रीय नेतृत्व की मुहर के बाद कमलनाथ के नाम पर मुख्यमंत्री की मुहर लग चुकी है। विधानसभा चुनाव में रैलियों के दौरान किसानों की कर्ज़ माफ़ी कांग्रेस के लिए अहम मुद्दा था। अब खबर है कि 17 दिसंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद कमलनाथ सबसे पहले किसानों का कर्ज़ माफ़ करने वाले हैं।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बीते गुरूवार को किसानों की कर्ज़ माफ़ी के लिए कमलनाथ ने मध्य प्रदेश के तमाम आईएएस और सीनियर अधिकारियों के साथ एक अनौपचारिक बैठक की है। इस दौरान बैठक में किसानों की क़र्ज़ माफी के लिए एक रोड मेप और नोट तैयार कर लिया गया है।

वहीं इस मामले में मध्य प्रदेश किसान मोर्चा के अध्यक्ष केदार सिरोही ने ग्राउंड रिपोर्ट से फोन पर बातचीत में बताया कि, किसानों की कर्ज़ माफ़ी का खाका चुनाव प्रचार के दौरान बने घोषणा पत्र के दौरान ही तय कर लिया गया था। अब हमारी सबसे बड़ी जिम्मेदारी किसानों की क़र्ज़ माफ़ी है। जिसे हम सबसे पहले पूरा करेंगे।

READ:  सावधान! ATM कार्ड से खरीदते हैं शराब, तो लग सकता है लाखों का चूना

बता दें कि शुक्रवार को राफेल मामले पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर एक बार फिर बीजेपी पर तीखा हमला किया। इस दौरान राहुल गांधी ने भी साफ शब्दों में कहा कि मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में किसानों का कर्ज़ माफ़ होने जा रहा है हम वादा कर रहे हैं जुमलेबाजी नहीं।

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान भी कांग्रेस ने किसानों की क़र्ज़ माफ़ी को सबसे बड़ा मुद्दा बनाया था यही कारण है कि 15 सालों से बीजेपी का गढ़ बन चुके इस राज्य में कांग्रेस सेंध लगाने में कामयाब रही। हांलाकि किसानों की क़र्ज़ माफ़ी कांग्रेस इसलिए करेगी क्योंकि अगले चार महीनों में आम चुनाव है ऐसे में कांग्रेस जीत का कोई भी मौका नहीं खोना चाहती।

लेकिन इन सबसे इतर बड़ा सवाल यह है कि जो प्रदेश पहले से ही कर्ज़ में डूबा हो ऐसे में नई सरकार कैसे इन किसानों का कर्ज़ माफ़ करेगी। वित्‍त विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, मध्य प्रदेश सरकार पर 1,60,871.9 करोड़ रुपये का कर्ज है जो कि इन तीन महीनों की किस्तें मिलाकर 1,87,636.39 करोड़ रुपए हो गया है।

READ:  Congress will not get 300 seats in Lok Sabha elections: Ghulam Nabi Azad

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चुनावों से ऐन पहले पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की जनता से लोक-लुभावन वादों के लिए करोड़ो रुपये की योजनाएं शुरू कर दी। इन फ्लैगशिफ योजनाओं में से एक संबंल योजना के लिए 10 हजार करोड़ रुपये किए गए। इसी योजना के तहत प्रदेश में करीब 5 हजार करोड़ रुपये के बिजली के बिल माफ किए गए हैं। ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि कांग्रेस कैसे प्रदेश के किसानों का कर्ज़ माफ़ करेगी इसे देखने के लिए हमें इंतज़ार ही करना होगा।