मध्य प्रदेश उपचुनाव : कमलनाथ कैसे दे सकते हैं शिवराज को पटखनी, समझे इन आंकड़ों की मदद से..

मध्य प्रदेश उपचुनाव : अशोक दांगी ने फिर थामा अपने कार्यकर्ताओं संग कांग्रेस का दामन
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश में आगामी उपचुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज़ हो चुकी हैं। ख़ाली पड़ी 27 विधानसभा सीटों पर नबंर से पहले चुनाव आयोग ने चुनाव कराने के सकेंत दे दिए हैं। सूबे में हुए तख्तापलट राजनीति के बाद बनी शिवराज की सरकार भी इस उपचुनाव में कोई ग़लती नहीं करना चाहती है। BJP को गद्दी बचाए रखने के लिए कम से कम 9 सीटों पर जीत हासिल करनी होगी। उधर, कांग्रेस या पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के लिए ये उपचुनाव कहीं ज़्यादा बड़ी चुनौती पेश करने वाले हैं, क्योंकि उन्हें तख्तापलट करने के लिए सभी 27 सीटों पर जीत हासिल करनी होगी।

मध्य प्रदेश में विधानसभा की कुल 230 सीटें हैं। वर्तमान में 27 सीटें ख़ाली हो चुकी हैं। इस वक्त 203 सीटों वाली विधानसभा में बीजेपी के पास 107 विधायक हैं, जो बहुमत के आंकड़े से पांच ज़्यादा हैं, वहीं कांग्रेस के पास इस वक्त सिर्फ 89 विधायक हैं। उपचुनाव हो जाने के बाद बहुमत का आंकड़ा 116 विधायक का हो जाएगा, जिस तक पहुंचने के लिए BJP को कम से कम नौ और कांग्रेस को सभी 27 सीटें जीतनी होंगी।

अगर BJP उपचुनाव में 9 से कम सीटें जीत पाती है, तो उसे समाजवादी पार्टी (SP), बहुजन समाज पार्टी (BSP) या निर्दलीय उम्मीदवारों का रुख करना होगा। वहीं, मौजूदा समय में 89 विधायकों वाली कांग्रेस को स्पष्ट बहुमत पाने के लिए उपचुनाव में सभी 27 सीटों पर जीत हासिल करनी होगी, तभी वह दोबारा सत्ता में आने का ख्वाब देख सकती है। वैसे, अगर BJP नौ से कम सीट जीत पाती है, और कांग्रेस 20 से ज़्यादा सीटें जीत लेती है, तो कमलनाथ चार निर्दलीयों, दो BSP और एक SP विधायक का समर्थन हासिल कर दोबारा कुर्सी पा सकते हैं।

बता दें, कि मार्च में ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ 22 विधायकों ने कांग्रेस छोड़ी थी और वे अब भाजपा के साथ हैं। इनमें से 16 सीट ग्वालियर-चंबल अंचल में हैं, जिनपर उपचुनाव होना है. इसी कारण कांग्रेस का पूरा जोर इसी इलाके में है। कांग्रेस के तीन अन्य विधायक भी विधानसभा की सदस्यता से त्यागपत्र देकर कांग्रेस छोड़ हाल ही में भाजपा में शामिल हुए हैं, जबकि दो सीट भाजपा और कांग्रेस के एक-एक विधायक के निधन से ख़ाली हैं।

मध्य प्रदेश की वो 27 सीटें जिन पर चुनाव होना है । राज्य की नेपानगर, बड़ामलहरा, डबरा, बदवावर, भांडेर, बमौरी, मेहगांव, गोहद, सुरखी, ग्वालियर, मुरैना, दिमनी, ग्वालियर पूर्व, करेरा, हाटपिपल्या, सुमावली, अनूपपुर, सांची, अशोकनगर, पोहरी, अंबाह, सांवेर, मुंगावली, सुवासरा, जौरा, आगर-मालवा , मान्धाता विधानसभा सीटों पर चुनाव होना है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।