Home » HOME » मध्य प्रदेश उपचुनाव : अंदरूनी कलह से जूझ रही बीजेपी, प्रत्याशी चयन करना मुश्किल!

मध्य प्रदेश उपचुनाव : अंदरूनी कलह से जूझ रही बीजेपी, प्रत्याशी चयन करना मुश्किल!

coronavirus Indore
Sharing is Important

Ground Report News Desk | New Delhi

मध्यप्रदेश में 24 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस की तैयारियां जोरशोर से चल रही है। पार्टी के आलाअधिकारी हर चीज पर नजर बनाए हुए। वहीं इस मामले में ग्राउंड रिपोर्ट से बातचीत में मध्य प्रदेश युवा कांग्रेस के प्रदेश सचिव हुमैद शकील ने बताया कि, मध्य प्रदेश में होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस भारी बढ़त मिलेगी और एक बार फिर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनेगी।

उन्होंने कहा, भाजपा का असली चेहरा जनता के सामने आ चुका है और जनता खींचतान कर छलकपट से बनाई गई इस सरकार को गिरा भी देगी। भाजपा में चुनाव को लेकर अंदरूनी तौर पर उधेड़बुन मची है, उन्हें प्रत्याशी चयन करना मुश्किल पड़ रहा है, कई नेता तो अभी से दूसरा विकल्प भी तलाश रहे हैं।

READ:  What is the reason behind withdraws farm laws?

इसके साथ ही हुमैद शकीन ने कहा कि, जिस प्रकार से केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार ने कोरोना महामारी की इस कठिन परिस्तिथि में जनता को असहाय छोड़ दिया है और भुखमरी की ओर धकेल दिया है जनता इन्हें कभी माफ नहीं करेगी। इसका खामियाजा भाजपा को न सिर्फ मध्य प्रदेश में होने वाले उपचुनाव बल्कि आगामी चुनावों में भी देखने को मिलेगा।

गौरतलब है कि, मध्य प्रदेश की जौरा विधानसभा सीट कांग्रेस विधायक बनवारीलाल शर्मा और आगर विधानसभा सीट बीजेपी विधायक मनोहर ऊंटवाल के निधन होने के चलते खाली है। वहीं बीते दिनों प्रदेश में हुए बड़े राजनीतिक फेरबदल के बाद दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे के 19 और तीन अन्य विधायकों समेत कांग्रेस के 22 विधायकों के इस्तीफे मंजूर होने के बाद रिक्त सीटों की संख्या बढ़कर 24 हो गई है। पहले इन पर जून में चुनाव होना थे लेकिन कोरोना के चलते अब चुनाव सिंतबर माह में होने की उम्मीद जताई जा रही है।