Madhya Pradesh by Elections 2020 : क्या इस चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया का निपटना तय ?

बागियों ने बढ़ाई शिवराज की मुश्किल, बीजेपी नेता ने कहा-उप चुनाव में सिंधिया को हराना है!

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report News Desk | New Delhi

मध्य प्रदेश विधानसभा उपचुनाव के मद्देनजर राज्य में सियासी पारा चढ़ गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी पार्टी के बगावती नेताओं और उनकी बयानबाजी से खासा परेशान हैं। बीजेपी नेता प्रेमचंद गुड्डू ने एक बयान देकर नए विवाद को जन्म दे दिया है। प्रेमचंद गुड्डू ने कहा है कि इस चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया को हराना है। जबकी ज्योतिरादित्य सिंधिया खुद बीते दिनों भाजपा में शामिल हुए हैं। ऐसे में बीजेपी नेता प्रेमचंद गुड्डू का ये बयान आगामी उपचुनाव में पार्टी की मुश्किल बढ़ा सकता है।

इस मामले में दैनिक भास्कर की एक खबर के मुताबिक, ज्योतिरादित्य सिंधिया और कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे तुलसी सिलावट के खिलाफ प्रेमचंद गुड्डू ने बगावती तेवर दिखाते हुए कहा है कि आगामी उपचुनाव में सिंधिया और तुलसी सिलावट को हराना है। इसके साथ ही गुड्‌डू ने इंदौर जिले की सबसे प्रतिष्ठापूर्ण मानी जाने वाली सांवेर विधानसभा सीट से सिलावट को चुनौती देने का ऐलान कर दिया है।

वहीं बीजेपी के आलाअधिकारी अपने नेता प्रेमचंद गुड्डू से खासा नाराज हैं। पार्टी ने गुड्डू के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्णय लिया है। पार्टी ने गुड्डू के खिलाफ पार्टी विरोधी बयानबाजी को लेकर नोटिस जारी करते हुए 7 दिनों के भीतर जवाब देने को कहा है।

मीडिया से बातचीत के दौरान प्रेमचंद गुड्डू ने सिंधिया और तुलसी सिलावट पर जमकर निशाना साधा और कहा कि, तुलसी सिलावट को सांवेर उपचुनाव में हराना है। वहीं सिंधिया पर निशाना साधते हुए कहा, किसानों के मुद्दों पर लगातार सरकारों को चिट्ठियां लिखने वाले सिंधिया आज किसानों से बात करने को तैयार नहीं हैं, ना ही सिलावट किसानों की सुध ले रहे हैं। सांवेर के किसान ही समर्थन मूल्य से कम कीमतों पर 1400 से 1500 रुपए प्रति क्विंटल गेहूं बेचने पर मजबूर हैं, जो सब्जियां लगाई थी, वह मंडियां बंद होने के कारण खेत में ही खराब हो गईं।

इसके बाद गुड्डू ने कहा, संकट की इस घड़ी में बड़े-बड़े दावा करने वाले सिंधिया और सिलावट किसानों और सांवेर के मतदाताओं को धोखा देकर घरों में दुबके हुए हैं। स्वतंत्रता संग्राम में महारानी लक्ष्मीबाई को हराने में इन्हीं का योगदान था। इनकी दादी ने कांग्रेस की सरकार गिराई थी। इनके पिता ने कांग्रेस को धोखा देकर अलग से चुनाव लड़ा था। सिंधिया परिवार अपने हितों को साधने के लिए लगातार कांग्रेस को धोखा देता रहा है।

प्रेमचंद गुड्डू यहीं नहीं रुके इसके बाद उन्होंने कहा कि, सिंधिया और सिलावट को सांवेर की जनता कभी माफ नहीं करेगी। सांवेर की जनता इन्हें सबक सिखाएगी। तुलसी सिलावट की हार यानी कि ज्योतिरादित्य की हार। मैं पार्षद, सांसद, विधायक सबकुछ रह चुका हूं। मेरी कोई दावेदारी नहीं है। मैं तो इस इस कार्य में लगा हूं कि इन सामंतियों को किस प्रकार से रोका जाए।