madhya pradesh by Elections 2020: bjp burns effigy kamalnath with red shoes accuses complicity china rajiv gandhi foundation

उपचुनाव से पहले कमलनाथ को बहुत बड़ा झटका, दो प्रमुख राजनीतिक दल बीजेपी में शामिल

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नेताओं के दल-बदल की खबरें तो आपने बहुत पढ़ी होंगी लेकिन जब नेता छोड़ पूरी की पार्टी ही किसी पार्टी में शामिल हो जाए तो क्या रिएक्शन दीजिएगा। मामला मध्य प्रदेश का है जहां पार्टियों का विलय भी हो रहा है। राजनीतिक इतिहास में ये पहला और दिलचस्प मामला है जब एक पार्टी बीजेपी में शामिल हो गई हो। मंगलवार को लोक समता पार्टी (लोसपा) के प्रदेश अध्यक्ष राजकुमार कुशवाहा बीजेपी में शामिल हो गएं लेकिन शाम होते-होते संपूर्ण समाज पार्टी (ससपा) की पूरी कार्यकारिणी का बीजेपी में विलय हो गया।

भरी सभा में शिवराज ने पूछा, कमलनाथ अच्छे मुख्यमंत्री या शिवराज, जवाब मिला- कमलनाथ

दोनों ही पार्टियों का विलय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में हुआ। इन दोनों पार्टियों का राजनीतिक तौर पर वोट बैंक के लिहाज से बहुत ज्यादा दखल भले न हो, लेकिन मध्यप्रदेश में दलबदल की सियासत के बीच इनके विलय की चर्चा खूब हो रही है। दोनों ही राजनीतिक पार्टियों के नेता ग्वालियर चंबल संभाग से जुड़े हुए हैं और वहां राजनीतिक तौर पर सक्रिय रहे हैं।

कांग्रेस द्वारा शेयर किए गए इस वीडियो के अलावा बीजेपी ने एक वीडियो शेयर किया –

विलय से पहले लोक समता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राजकुमार कुशवाह मंगलवार सुबह मंत्री अरविंद भदौरिया के साथ मुख्यमंत्री निवास पहुंचे और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सामने पूरी पार्टी के साथ बीजेपी में शामिल हो गए। बता दें कि राजकुमार कुशवाह ग्वालियर चंबल में सक्रिय नेता हैं और दो बार मेहगांव से चुनाव भी लड़ चुके हैं।

Madhya Pradesh By-elections : क्या ख़रीद-फरोख़्त की राजनीति करके उपचुनाव जीत पाएगी बीजेपी ?

राजकुमार कुशवाह ने सुबह बीजेपी का दामन थामा लेकिन शाम होते होते संपूर्ण समाज पार्टी का भी बीजेपी में विलय हो गया। संपूर्ण समाज पार्टी की पूरी कार्यकारिणी मुख्यमंत्री निवास में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सामने बीजेपी में शामिल हो गई। वहीं इससे पहले कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे ज्योतिरादित्य बीजेपी में शामिल हुए थे इसके बाद कांग्रेस के 22 बागी विधायकों ने भी बीजेपी का दामन थाम लिया था। लेकिन अब प्रदेश के दो बड़े क्षेत्रीय राजनीतिक दलों का बीजेपी में उपचुनाव से पहले शामिल होना कांग्रेस के लिए किसी बड़े झटके से कम नहीं है क्योंकि दोनों ही पार्टियों ग्वालियर चंबल इलाके में अपना जनाधार है और इस क्षेत्र में करीब 16 सीटों पर उपचुनाव होना है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।