Home » HOME » भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष अपने ही मंत्रियों पर क्यों भड़क उठे ?

भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष अपने ही मंत्रियों पर क्यों भड़क उठे ?

मध्य प्रदेश उपचुनाव : भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष अपने ही मंत्रियों पर क्यों भड़क उठे ?

मध्य प्रदेश में आगामी उपचुनाव को लेकर भाजपा किसी भी तरह ग़लती करने के मूड़ में नहीं दिख रही है। कांग्रेस हो या भाजपा दोनो ही पार्टियां तैयारी को लेकर कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती हैं। भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने 27 सीटों का रिव्यू किया है। एक-एक सीट के लिए उन्होंने 5-5 मिनट दिए। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और संगठन महामंत्री सुहास भगत मौजूद रहे।

राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने सभी सीटों के जातिगत समीकरणों के साथ पार्टी की तैयारियों पर उन्होंने बात की। साथ ही कहा कि चुनावी गतिविधियों के साथ कार्यकर्ताओं के मोबलाइजेशन के लिए केंद्रीय नेतृत्व से मिले कार्यक्रमों को भी तेजी से किया जाए।

क्या भारी विरोध के बावजूद अपनी साख बचा पाएंगे सिंधिया?

इससे पहले संतोष ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के समिधा कार्यालय पहुंचकर क्षेत्रीय प्रचारक दीपक विस्पुते से मुलाकात की। पार्टी दफ्तर के एक-एक कक्ष का निरीक्षण किया। दोपहर बाद भोपाल से रवाना हो गए। संतोष ने चुनावी सीटों के कुछ सीनियर नेताओं के बारे में भी रिपोर्ट ली।

भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री श्री बीएल संतोष ने नाराज़ चल रहे कैबिनेट मंत्रियों से स्पष्ट शब्दों में कहा कि यदि किसी भी प्रकार के असंतोष या मनमुटाव का असर चुनाव परिणाम पर दिखाई दिया तो यह उनके भविष्य के लिए अच्छा नहीं होगा। श्री संतोष ने दो टूक कहा कि यदि किसी मंत्री के प्रभाव क्षेत्र से भाजपा का प्रत्याशी हार गया तो इसके लिए संबंधित मंत्री को जिम्मेदार माना जाएगा। 

पहली बार संघ के आगे नतमस्तक हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया

वहींं चुनावी सरगर्मियों के बीच मध्य प्रदेश उपचुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने कहा है कि सभी 27 सीटों पर 29 नवंबर से पहले वोटिंग करा ली जाएगी। इलेक्शन कमीशन ने शुक्रवार को बड़ी घोषणा करते हुए कहा है कि, बिहार विधानसभा चुनाव के साथ ही उपचुनाव भी करवाए जाएंगे। चुनाव आयोग ने कहा कि, देश भर में 64 ऐसी विधानसभा सीट है जहां उपचुनाव होने हैं इसमें मध्य प्रदेश की 27 विधानसभा सीटें भी शामिल हैं।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।