Madhya Pradesh By Elections 2020: Political furore after FIR on Kamal Nath, PC Sharma targeted BJP

कमलनाथ पर FIR के बाद प्रदेश में सियासी बवाल, पीसी शर्मा ने साधा बीजेपी पर निशाना

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश उपचुनाव (Madhya Pradesh By Elections 2020 ) में हो रही जनसभा के बीच कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ (Congress Leader Kamalnath) पर हुई एफआईआर (FIR) के बाद राजनीति गरमा गई है। कांग्रेस नेता पीसी शर्मा (Congress Leader PC Sharma) ने बीजेपी (BJP) पर निशाना साधते हुए कहा कि, भारतीय जनता पार्टी की बड़ी-बड़ी रेलिया हो रही है, आयोजन हो रहे है। उस पर कोई एफआईआर (FIR on Kamalnath) नहीं हो रही है। कमलनाथ जी ने कहा है यह कोई अधिकारियों कर्मचारियों की लाई हुई भीड़ नही थी। यह जनता की भीड़ थी। हम FIR से डरने वाले नहीं है।

READ:  मध्य प्रदेश उपचुनाव : अब अपने घर बैठे दे सकेंगे वोट, इन मतदाताओं के मिल रही ये विशेष सुविधा..

Video: कमलनाथ के काफीले पर बीजेपी कार्यकर्ताओं की पत्थरबाजी

वहीं पीसी शर्मा ने उपचुनाव को लेकर कहा कि, चुनाव के समय जो 5 साल के लिए जनता ने कमलनाथ जी की सरकार चुनी थी शिवराज जी को भगाया था। अब 28 विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। उसका इफेक्ट पूरे देश पर पड़ने वाला है। क्या हमेशा यह खरीद फरोख्त करके सरकारी बनाई जाएंगी। यह सब महत्व पूर्ण विषय है।

शाहीन बाग जैसे प्रदर्शन स्विकार्य नहीं, सार्वजनिक स्थानों पर कब्जा नहीं किया जा सकता: सुप्रीम कोर्ट

वहीं उन्होंने कांग्रेस द्वारा खाट पट चर्चा करने को लेकर कहा कांग्रेस हमेशा खाट पर ही चर्चा करती है। किसानों का मुद्दा बहुत बड़ा मुद्दा है। तीन विधेयक जो पार्लियामेंट्स में आए हैं, जिसमें किसानों की जमीन हड़प ली जाएगी, किसान बंधुआ मजदूर हो जाएगा। आज एमएसपी की वजह से किसानों को उसकी फसल का मूल्य मिल जाता है जो कि आगे चलकर उन्हें मिल पाएगा।

READ:  मध्य प्रदेश उपचुनाव से पहले शिवराज-सिंधिया को बड़ा झटका, 300 बीजेपी कार्यकर्ता कांग्रेस में शामिल

मेहगांव सीट से हेमंत कटारे होंगे कांग्रेस उम्मीदवार, प्रबल दावेदार राकेश सिंह का कटा टिकट

इसके बाद पीसी शर्मा ने कोरोना संक्रमण को लेकर कहा कि कोरोना संक्रमण के मामले में डेढ़ लाख से ज्यादा पहुंच गए हैं। 2500 से ज्यादा जाने जा चुकी है। हमारा सिर्फ एक ही नारा है बिकाऊ नहीं टिकाऊ चाहिए। गद्दारों की नहीं कमलनाथ जी की सरकार चाहिए।लगातार ट्रांसफर हो रहे है और अभी भी हो रहे है। इसलिए भोपाल के मंत्रालय पर भी आचार संहिता लगना चाहिये।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।