Home » मध्य प्रदेश उपचुनाव : बीजेपी खेमे में इस कारण मची है खलबली, कई नेताओं का सियासी करियर दांव पर

मध्य प्रदेश उपचुनाव : बीजेपी खेमे में इस कारण मची है खलबली, कई नेताओं का सियासी करियर दांव पर

ज्योतिरादित्य सिंधिया व उनके सचिव पर चुनाव के टिकट बेचने का आरोप !
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश में आगामी 27 सीटों पर उपचुनाव को लेकर सियासी महौग गर्म बना हुआ है। उपचुनाव से पहले बीजेपी खेम में काफी खलबली है। बीजेपी के कई नेता अपने सियासी करियर को लेकर चिंतित नज़र आ रहे हैं। माना जा रहा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के आने से बीजेपी के पुराने नेताओं में असंतोष है। खासकर वे नेता नाराज बताए जा रहे हैं, जो पिछले विधानसभा चुनाव में हार गए थे। इस नाराज़गी का सीधा फायदा कांग्रेस को होता नज़र आ रहा है।

दरअसल, उन सीटों पर सिंधिया के साथ बीजेपी में आए लोगों को ही टिकट मिलेगा। ऐसे में वे लोग चिंतित हैं कि आगे क्या होगा। बताया जा रहा है कि इसी कारण ग्वालियर पूर्व से बीजेपी के उम्मीदवार सतीश सिकरवार मंगलवार को पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए। जैसे-जैसे उपचुनाव करीब-आ रहे हैं वैसे-वैसे मध्य प्रदेश में नेताओं का इधर से उधर आना-जाना अभी भी जारी है।

ऐसे में अब संगठन को लग रहा है कि आने वाले समय में कुछ और नेता पार्टी छोड़ सकते हैं। बगावत की आहट को देखत हुए राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष मध्य प्रदेश में एक्टिव हो गए हैं ताकि समय रहते अंदरूनी कलह को खत्म किया जा सके।

मध्य प्रदेश उपचुनाव से पहले शिवराज को बड़ा झटका, बीजेपी नेता सिकरवार कांग्रेस में शामिल

माना जा रहा है कि बीएल संतोष उपचुनाव की तैयारियों को लेकर जमीनी स्तर पर भी लोगों से फीडबैक लेंगे। साथ ही नाराज चल रहे नेताओं से भी बात करेंगे। साथ पिछले विधानसभा चुनाव में हारे हुए प्रत्याशियों से भी फीडबैक लेंगे। कलमनाथ ने कमान पूरी तरह से अपने हाथ में ले रखी है। इस बाग वो कोई ग़लती नहीं करना चाहते हैं। 15 महीने के बाद सत्ता से बेदखली के बाद कमलनाथ के लिए ये उपचुनाव एक बड़ी चुनौती से कम नहीं।

पार्टियों की स्थिति पर ग़ौर करें तो सतही तौर पर बीजेपी में कांग्रेस के मुकाबले असंतोष कहीं ज्यादा नज़र आ रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि 25 विधानसभा क्षेत्रों में बीजेपी को उन लोगों को उम्मीदवार बनाना पड़ रहा है जो पिछले दिनों कांग्रेस छोड़कर पार्टी में शामिल हुए हैं। इस स्थिति ने ही पार्टी में असंतोष के बीज बोए हैं। उधर कमलनाथ इसी असंतोष का फायदा उठाने की पूरी कोशिश में लगे हुए हैं। इसके साथ ही कमलनाथ सिंधिया पर लगातार ज़ुबानी हमले कर रहे रहैं।

Madhya Pradesh bypolls : अपनी साख बचाने के लिए फूंक-फूंक कर क़दम रख रहे कमलनाथ

वहीं चुनावी सरगर्मियों के बीच मध्य प्रदेश उपचुनाव  को लेकर चुनाव आयोग ने कहा है कि सभी 27 सीटों पर 29 नवंबर से पहले वोटिंग करा ली जाएगी। इलेक्शन कमीशन ने बड़ी घोषणा करते हुए कहा है कि, बिहार विधानसभा चुनाव के साथ ही उपचुनाव भी करवाए जाएंगे। चुनाव आयोग ने कहा कि, देश भर में 64 ऐसी विधानसभा सीट है जहां उपचुनाव होने हैं इसमें मध्य प्रदेश की 27 विधानसभा सीटें भी शामिल हैं।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।