Home » मध्य प्रदेश उपचुनाव : प्रधानमंत्री मोदी की सीधी ‘एंट्री’ पर बिफर पड़े कमलनाथ

मध्य प्रदेश उपचुनाव : प्रधानमंत्री मोदी की सीधी ‘एंट्री’ पर बिफर पड़े कमलनाथ

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश में आगामी उपचुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी एंट्री हो गई है। पीएम मोदी की इस इंट्री से कांग्रेस तिलमिली उठी है। पूर्व मुख्यमंत्री और मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष पीएम मोदी की उपचुनाव में एंट्री के बाद कमल नाथ जमकर बिफरे।

केन्द्र सरकार द्वारा हाल ही में लागू की गई स्ट्रीट वेंडर स्वनिधि योजना के मध्य प्रदेश के लाभार्थियों से मोदी ने बुधवार को सीधी बात की। मध्य प्रदेश में लागू स्वनिधि योजना को मोदी ने जमकर सराहा। कम समय में योजना की ‘जमावट’ को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी टीम की पीठ भी जमकर थपथपाई।

मध्य प्रदेश उपचुनाव: ग्वालियर-चंबल संभाग की वो 16 सीटें जिन पर होना है उपचुनाव

बीजेपी ने एक ही तीर से मध्य प्रदेश विधानसभा की 27 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर कई निशाने एक साथ साधे। बहुत ही सूझबूझ से मध्य प्रदेश की सरकार ने वर्चुअल मौजूदगी के जरिये पीएम मोदी को ‘कैश’ कराया।

मध्य प्रदेश के लोगों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने अपनी सरकार के छह सालों की उपलब्धियां गिनाईं। पीएम मोदी ने कहा, ‘‘गरीबी हटाने को लेकर आजादी के बाद बनी भारत की सरकारों ने बातें तो खूब कीं, लेकिन ऐसा काम गरीबों के लिए कभी भी नहीं हुआ जो हमारी सरकार ने पिछले छह सालों में करके दिखाया है।’’

मध्य प्रदेश की सरकार कई दिनों से मोदी के इस आयोजन की ‘तैयारियां’ कर रही थी। तमाम प्रचार-प्रसार किया जा रहा था। इसके लिए बुधवार को राज्य के तमाम अखबारों में बड़े-बड़े विज्ञापन जारी किये गये थे।

 अपनी साख बचाने के लिए फूंक-फूंक कर क़दम रख रहे कमलनाथ

कलमनाथ ने सवाल उठाते हुए कहा, ‘‘शिवराज सरकार का एक लाख वेंडरों को लाभ पहुंचाने वाला दावा यदि सही होता तो वह सांवेर, ग्वालियर और सांची के लाभार्थियों को प्रधानमंत्री से बातचीत कराने के लिए नहीं चुनती?’’ नाथ ने कहा कि तब सरकार ऐसे क्षेत्रों के लाभार्थियों को चुनती, जहां उपचुनाव नहीं होने हैं। कमल नाथ ने बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आड़े हाथों लिया और कहा कि उपचुनावों के लिए स्वनिधि योजना का राजनीतिकरण ठीक नहीं है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।