Home » मध्य प्रदेश उपचुनाव : मतदाताओं में कोरोना का डर, कम मतदान की आशंका ने उड़ा दी भाजपा की नींद

मध्य प्रदेश उपचुनाव : मतदाताओं में कोरोना का डर, कम मतदान की आशंका ने उड़ा दी भाजपा की नींद

मुख्यमंत्री शिवराज
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश आगामी उपचुनाव पर कोरोना का बड़ा असर देखते को मिल सकता है। प्रदेश की 27 विधानसभा सीटों पर चुनाव आयोग ने नवंबर से पहले-पहले चुनाव कराने के संकेत दे दिए हैं। कोरोना महामारी को लेकर चुनावी रण में हीरो का किरदार निभाने वाली जनता से जो फीडबैक मिलता दिख रहा है, उसने भाजपा की मुश्किलों को बढ़ा दिया है।

असल में मध्य प्रदेश में उपचुनाव में वोटिंग को लेकर कहा जा रहा है कि कोरोना के डर से इन क्षेत्रों में महिलाएं, बुजुर्ग सहित मध्यम वर्ग के लोग मतदान करने को एक ख़तरे के तौर पर देख रहे हैं। ऐसे माहौल मुमकिन है कि वे लोग वोट करने ही न निकलें।

मुश्किल ये है कि भाजपा को इन्हीं मतदाताओं से बड़ी उम्मीद है।उसका मानना है कि इनके न निकलने से उसे तो नुकसान होगा। ऐसे में भाजपा ने क्षेत्रिए मतदाताओं को भरोसा दिलाना शुरू कर दिया है और साथ ही मतदान करने के लिए मतदाताओं को प्रेरित करना भी शुरू कर दिया है।

मध्य प्रदेश उपचुनाव से पहले शिवराज को बड़ा झटका, बीजेपी नेता सिकरवार कांग्रेस में शामिल

कोरोना संकट के बीच मतदाताओं को मतदान केंद्र तक लाना भाजपा-कांग्रेस दोनों के लिए ही चुनौतीपूर्ण है। भाजपा ने तो हर मतदान केंद्र पर कार्यकर्ताओं को तैनात कर दिया है। पार्टी ने एक प्रभारी और 10 कार्यकर्ताओं की टीम को हर घर तक दस्तक देने के लिए लगाया है।

वहीं महिला मोर्चे की एक प्रभारी और पांच कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी दी है कि वे बूथ में आने वाले हर परिवार की महिलाओं से बात कर उन्हें मतदान करने के लिए प्रेरित करें। युवा मोर्चा के भी एक प्रभारी और पांच कार्यकर्ताओं को नौजवान मतदाताओं से बातचीत करने की जिम्मेदारी दी गई है।

मध्य प्रदेश में उपनुचाव वाले सभी जिलों के कलेक्टरों ने निर्वाचन आयोग को चुनाव कराने के लिए अपनी सहमति दे दी है। निर्वाचन आयोग की तैयारियों को देखते हुए संभावना जताई जा रही है कि 15 अक्टूबर के बाद चुनाव हो सकते हैं। कोरोना वायरस के खतरे को भांपते हुए इन चुनाव में अतिरिक्त 2225 बूथों की संख्या बढ़ाने का फैसला किया गया है।

वहीं मतदान केंद्रों पर भीड़ न इकट्ठी हो इस बात का भी विशेष ध्यान रखा जाएगा। सोशल डिस्टेंसिंग और सुरक्षा कारणों को ध्यान में रखते हुए चुनाव अधिकारियों को मतदाताओं से कोरोना गाइडलाइंस का पालन कराने की भी ट्रेनिंग दी गई है। बता दें कि चुनाव आयोग ने उपचुनाव वाले सभी 18 जिलों के कलेक्टरों से उनकी तैयारियों के बारे में जानकारी हासिल की थी।

मध्य प्रदेश उपचुनाव: कांग्रेस ने इन 15 सीटों पर फाइनल किए अपने उम्मीदवार, देखें लिस्ट

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।