madhya pradesh by elections 2020: CM shivraj singh chouhan RSS Report on 24 seats narendra singh tomar

RSS का फीडबैक, शिवराज के मुख्यमंत्री रहते नहीं जीत सकते उपचुनाव, बदलना होगा सीएम

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश में 24 सीटों पर होने वाले आगामी चुनावों को लेकर राजनीतिनक हलचल तेज हो गई है। वहीं इन सबके बीच मंत्रिमंडल विस्तार के साथ शुरू हुई राजनीतिक गहमागहमी, मुख्यमंत्री बदले जाने तक जा पहुंची है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह मंत्रिमंडल की सूची लेकर दिल्ली हवाई अड्डे पर उतरे भी नहीं होंगे, इससे पहले ही मप्र में मुख्यमंत्री बदलने की चर्चा तेज हो गई।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की जगह नरेंद्र सिंह तोमर को मुख्यमंत्री बनाए जाने की बात हो रही है। वहीं इससे उलट शिवराज सिंह चौहान को केंद्र में नरेंद्र सिंह तोमर वाला मंत्रालय दिया जा सकता है। चर्चा इस बात की भी है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया को रेलमंत्री पर मंथन चल रहा है।

ALSO READ: सिंधिया से हार का बदला लेना चाहते हैं विजयवर्गीय, आगामी उपचुनाव में शिवराज को होगा भारी नुकसान’

अचानक शुरू हुए इन अटकलों के दौर के बाद बीजेपी हाई कमान की ओर से अब तक कोई सफाई नहीं आई है, इसीलिए भी लोग इन चर्चाओं को गंभीरता से ले रहे हैं। इन चर्चाओं को बल इसलिए भी मिल रहा है क्योंकि नई दिल्ली स्थित गृह मंत्री अमित शाह के घर पर लंबी बैठक जारी है।

वहीं इस मामले में वरिष्ठ पत्रकार वासुदेव शर्मा के हम सबकी आवाज वेबसाइट में छपे एक आर्टिकल के मुताबिक, राजनीतिक जानकार इस तरह के कयास लगा भी रहे थे, जिसके पीछे उनके द्वारा संघ-भाजपा के अंदर से जुटाई गई जानकारियां थीं।

संघ-भाजपा का शीर्ष नेतृत्व नहीं चाहता कि उपचुनाव शिवराज सिंह के सीएम रहते लड़ा जाए, क्योंकि उनके मुख्यमंत्री रहते ही हार मिली। विधानसभा चुनाव से पहले का संघ का फीडबैक था कि शिवराज सिंह का आकर्षण खत्म हो चुका है, उनके भाषण से लोग ऊब महसूस करने लगे हैं, सही साबित हुआ और भाजपा सरकार से बाहर हो गई।

ALSO READ: सरकार ने टिकटॉक समेत इन 59 चीनी एप्स पर लगाया बैन

इस लेख में पत्रकार वासुदेव शर्मा आगे लिखते हैं, अब एक बार फिर मप्र में 24 सीटों पर उपचुनाव होने हैं, यह पहला ऐसा चुनाव है, जिसमें सरकार के भाग्य का फैसला होना है, इसीलिए यह आम चुनाव से ज्यादा महत्वपूर्ण है। कोरोना के दौरान शिवराज सिंह दिनभर टीवी चैनलों पर मौजूद रहे। तमाम तरह की अपीलें की, लेकिन वे लोगों में असर नहीं छोड़ सकीं, उल्टे कोरोना में सरकार के प्रति लोगों की नाराजगी बढ़ती गई।

संघ-भाजपा ने जिन सीटों पर उपचुनाव होने हैं, उन क्षेत्रों में अंदरूनी सर्वे कराया हैं। सूत्रों के अनुसार इस सर्वे में उपचुनाव में भाजपा को एक भी सीट नहीं मिलने की बात सामने आई है, जिसने संघ और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को विचलित कर दिया है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।