MP 3rd wave corona lockdown guidelines

मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा, माफ होंगे बिजली बिल, लेकिन कहीं ये सिर्फ चुनावी जुमला तो नहीं

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश में 27 सीटों पर होने वाले उप चुनाव के चलते राजनीतिक हलचल तेज हो गई है। बयानबाजी और घोषणाओं का दौर शुरू हो चुका है। इस फेहरिस्त में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ी घोषणा करते हुए कहा है कि बिजली के बिल माफ कर दिए जाएंगे। लेकिन हर बार की तरह यह सिर्फ जुमला बनकर न रह जाए। मुख्यमंत्री घोषणा तो कर देते हैं लेकिन लोग घोषणाओं को ही जारी आदेश मान लेती है।

RSS का फीडबैक, शिवराज के मुख्यमंत्री रहते नहीं जीत सकते उपचुनाव, बदलना होगा सीएम

READ:  पंजाब: अनलॉक के बाद भी प्राइवेट बस मालिकों को नहीं मिल रही राहत

बीते दिनों एक सभा में सीएम शिवराज ने का था कि बढ़े हुए बिजली माफ किए जाते हैं। मुख्यमंत्री शिवराज के मुताबिक मध्य प्रदेश सरकार ने निम्न आय वर्ग के घरेलू बिजली उपभोक्ताओं को बड़ी राहत दी गई है। राज्य सरकार ने एक किलो वाट तक के घरेलू उपभोक्ताओं के देयकों (बिल) की 31 अगस्त तक की बकाया राशि को स्थगित करने का फैसला लिया है।

शिवराज-सिंधिया के साथ आने से क्या आसानी जीत पाएगी बीजेपी?

वहीं राज्य के ऊर्जा विभाग के सचिव आकाश त्रिपाठी ने तीनों विद्युत वितरण कम्पनियों के प्रबंध संचालकों को निर्देशित किया है कि एक किलोवाट तक के संयोजित भार वाले घरेलू उपभोक्ताओं को आगामी सितम्बर एवं अक्टूबर, 2020 में मात्र उनकी वर्तमान मासिक खपत के आधार पर विद्युत देयक जारी किए जाएं एवं पूर्व बकाया एवं सरचार्ज राशि का समावेश न किया जाए।

READ:  Lockdown Extension: घर पर ही रहिए, 30 मई तक बढ़ सकता है लॉक डाउन...

मध्यप्रदेश में सियासी घमासान, वायरल ऑडियो में कमलनाथ की सरकार गिराने का ‘सच’ बोल रहे शिवराज!

ऊर्जा सचिव त्रिपाठी द्वारा जारी आदेश के अनुसार, इस श्रेणी में माह सितम्बर में जारी होने वाले बिलों में केवल मासिक खपत का बिल जारी होगा अर्थात उसमें कोई भी पिछली बकाया राशि एवं एरियर्स सम्मिलित नहीं होंगे। माह अक्टूबर 2020 के बिल में मासिक खपत बिल के साथ यदि किसी उपभोक्ता द्वारा माह सितम्बर का बिल नहीं भरा गया है तो उसकी बकाया राशि में सरचार्ज के शामिल होगी।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना पॉज़िटिव

बताया गया है कि आस्थगित बकाया राशि (31 अगस्त की स्थिति में) के बारे में पृथक से निर्देश जारी किए जाएंगे। इन निर्देशों का कड़ाई से समय पर पालन सुनिश्चित करने और बिलिंग सटवेयर में 31 अगस्त तक आवश्यक परिवर्तन करने के निर्देश दिए गए हैं।

READ:  उपचुनाव से पहले मध्य प्रदेश में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, लगी आईपीएस अधिकारियों के तबादलों की झड़ी

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें [email protected] पर मेल कर सकते हैं।