Home » मध्य प्रदेश उपचुनाव के बीच उजागर हुआ बड़ा घोटाला, सवालों के घेरे में शिवराज सरकार

मध्य प्रदेश उपचुनाव के बीच उजागर हुआ बड़ा घोटाला, सवालों के घेरे में शिवराज सरकार

Madhya Pradesh by-elections 2020, Big scam exposed in BJP Shivraj government under questions congress kamalnath Madhya Pradesh By Elections 2020: BSP Leaders joins congress kamalnath BJP Shivraj Singh Chouhan
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में एक के बाद एक घोटाले सामने आने के बाद अब एक और बड़ा घोटाला (Big Scam) उजागर हुआ है। राज्य के 4 जिलों में 29 करोड़ का घोटाला सामने आया है। यह घोटाला प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट सौभाग्य योजना (Prime Minister Dream Project Saubhagya Yojana in Madhya Pradesh) में किया गया है। उपचुनाव (Madhya Pradesh Be Elections 2020) से पहले इस घोटाले ने सियासी गलियारों में हड़कंप मचा दिया है। घोटाला सामने आने के बाद कांग्रेस बीजेपी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (BJP, Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) को घेरने की तैयारी कर रही है तो वहीं बीजेपी पलटवार करती नजर आ रही है। कांग्रेस (Congress, Kamalnath) ने इसमें कई बड़ी मछलियों के शामिल होने की बात कही है। खास बात ये है कि इस मामले की जांच पिछली कमलनाथ सरकार (Kamalnath Government) में शुरु की गई थी।

कांग्रेस उम्मीदवारों की तीसरी लिस्ट जारी, इन चार लोगों को दिया टिकट

READ:  Shivraj Chauhan replied to comment of Hemant Soren on discussion with PM Modi

29 करोड़ रुपयों का घोटाला
मिली जानकारी के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट सौभाग्य योजना में मध्यप्रदेश के अफसरों ने घोटाला (Scam) किया है। 4 अगस्त तक हुई जांच में कई जिलों में बिजली घर घर पहुंचाने के माममे में भारी अनियमितता मिली है। घोटाले का खुलासा तब हुआ जब बिजली कंपनी (electricity company) ने उपभोक्ताओं की शिकायतों के आधार पर चार जिलों की जांच कराई तो 29 करोड़ रुपये से ज्यादा का घोटाला मिला। हैरानी की बात तो ये है कि सबसे ज्यादा नुकसान मंडला और डिंडौरी जिले में हुआ। मंडला (Mandla) में जहां 15 करोड़ रुपये तो डिंडौरी (Dindori) जिले में 8.40 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया है |

प्रदेश के 44 बड़े अफसर जांच के घेरे में
इसके अलावा सीधी, जबलपुर और सिंगरौली में भी घोटाला उजागर हुआ है। सुत्रों की मानें तो लाख रुपये से ज्यादा का मासिक वेतन लेने वाले आधा सैकड़ा से ज्यादा अफसर इसमें शामिल है, हालांकि कंपनी ने फिलहाल सिंगरौली छोड़कर शेष 44 अफसरों के खिलाफ विभागीय जांच शुरू कर दी है।इसमें दोषी अफसरों के खिलाफ आरोप-पत्र जारी किए गए हैं। बता दे कि कोरोना संकट काल और लॉक़ाउन के बीच कई घोटाले उजागर हुए है। अबतक प्रदेशभर में चावल घोटाला, गेहूं घोटाला, नीमच का सत्तू घोटाला और चना घोटाला सामने आ चुका है।

READ:  Delhi Covid wave worsens: 8 cases per minute, 3 deaths every hour

मध्य प्रदेश उपचुनाव: बीजेपी के 25 उम्मीदवारों की फाइनल लिस्ट, देखें किसे कहां से मिला टिकट

रिपोर्ट में अबतक जांच में सामने आया ये घोटाला
मंडला जिले में 38017 नए कनेक्शन की जगह 16518 कनेक्शन पाये गए है जो करीब 9 करोड़ 53 लाख का चूना लगा है। डिंडौरी जिले में 24 हजार 562 कनेक्शनों की जांच में अब तक 8 करोड़ 48 लाख रुपए के अतिरिक्त भुगतान का हुआ खुलासा हुआ। सीधी जिले में हुई जांच में 218 प्रोजेक्ट में अब तक 2 करोड़ 24 लाख रुपए की हेराफेरी का खुलासा किया गया। सिंगरौली जिले में हुई जांच में 502 कनेक्शनों की जांच में तीन ठेकेदारों को 4 करोड़ 46 लाख रुपए के अतिरिक्त भुगतान किया गया है।

READ:  Indore Corona: 5 सदस्य के परिवार में 3 की मौत, अस्पताल का बिल बना 16 लाख

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।