Home » मध्य प्रदेश उपचुनाव : ग्वालियर-चंबल अंचल से कांग्रेस ने इनको दिया मौका

मध्य प्रदेश उपचुनाव : ग्वालियर-चंबल अंचल से कांग्रेस ने इनको दिया मौका

मध्य प्रदेश उपचुनाव : ग्वालियर-चंबल अंचल से कांग्रेस ने इनको दिया मौका
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश की 27 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए कांग्रेस पार्टी ने अपने प्रत्याशियों की पहली लिस्ट जारी कर दी है। कांग्रेस ने अपनी पहली लिस्ट में 15 उम्मीदवार घोषित किए हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, अधिकांश नामों को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ की सहमति के बाद शामिल किया गया है। लिस्ट के मुताबिक, कांग्रेस ने सांवेर से प्रेमचंद गुड्डी और ग्वालियर से सुनील शर्मा को मैदान में उतारा है।

27 सीटों में ग्‍वालियर-चंबल अंचल की सीटों पर चुनाव खासा निर्णायक माना जा रहा है। जानिए इन सीटों पर कांग्रेस के उम्‍मीदवारों के बारे में जिनको मिला है मौक़ा

सुनील शर्मा ग्वालियर विधानसभा

राजनीतिक सफर-सक्रिय कांग्रेस नेता व कांग्रेस के प्रदेश पदाधिकारी, कट्टर सिंधिया समर्थक के रूप में छवि थी परंतु पार्टी का साथ नहीं छोड़ा। 2018 के चुनाव में भी टिकिट के दावेदार थे परन्तु सिंधिया समर्थक प्रधुम्न सिंह तोमर को टिकट मिला। अब जब प्रधुम्न सिंह सिंधिया के साथ भाजपा में चले गए तो पार्टी ने इन पर विश्वास जताया है।

फूल सिंह बरैया, भांडेर विधानसभा, दतिया

उम्र-58 साल

शिक्षा-बीई मैकेनिकल, एमआईटीएस ग्वालियर

राजनीतिक सफर-लम्बे समय तक बसपा में रहे बाद में बहुजन संघर्ष दल नाम से अलग पार्टी भी बनाई। पार्टी का कांग्रेस में विलय किया। हाल में हुए राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस से उम्मदीवार भी रहे। भांडेर से पहले भी चुनाव लड़ चुके हैं। यहां से बसपा से विधायक भी रहे हैं।

रविंद्र सिंह तोमर, विधानसभा दिमनी, मुरैना

आयु- 45 वर्ष, शिक्षा- पोस्ट ग्रेजुएट

2013 में कांग्रेस से चुनाव लड़े, लेकिन हार गए और दूसरे स्थान पर रहे। 2018 में टिकिट मांगा लेकिन नहीं मिला, उस समय टिकिट गिर्राज डंडौतियया को मिला।

सत्यप्रकाश सखवार, विधानसभा अंबाह, मुरैना

आयु- 48 वर्ष, शिक्षा- एलएलएम

2013 में बसपा से चुनाव जीते और विधायक रहे। 2018 में फिर से बसपा से चुनाव लड़े लेकिन जीत नहीं सके। इस बार कांग्रेस से टिकिट ले आए हैं।

सुरेश राजे, डबरा विधानसभा उम्मीदवार, ग्वालियर

उम्र- 55 साल

राजनीतिक सफर- शुरू से भाजपाई रहे। 2 साल पहले ही कांग्रेस में आये थे। इमरती देवी ही इन्हें लेकर आई थी। 2013 में भाजपा से टिकट मिला और इमरती के खिलाफ चुनाव लड़े थे और हारे। इसके अलावा नगर पालिका का चुनाव भी 2 बार लड़े और हारे। मंडी और व्यापारियों से जुड़ाव मजबूत है। ग्रामीण अंचल में भी पकड़ अच्छी है।

प्रागी लाल जाटव, करैरा विधानसभा, शिवपुरी

शिक्षा-10वीं पास

तीन बार बीएसपी से चुनाव लड़े दो बार दूसरे नम्बर रहे और एक वार 2018 में तीसरे नम्बर पर आए थे जो ग्राम रामनगर गधाई के रहने वाले है ।

मेवाराम जाटव, गोहद विधानसभ, भिंड

उम्र- 49 वर्ष, शिक्षा- स्नातक

वर्ष 2008 में बसपा से गोहद विधानसभा का चुनाव लड़ चुके हैं। वर्ष 2013 में कांग्रेस के टिकट से गोहद विधानसभा का चुनाव लड़े थे। दो बार जिला पंचायत सदस्य रहे हैं। पूर्व मंत्री लहार विधायक डॉ गोविंद सिंह के खास समर्थक हैं।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।