कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी के निधन के बाद अब 28 सीटों पर होगा उपचुनाव

मध्य प्रदेश में राजगढ़ जिले की ब्यावरा विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी के निधन के बाद यह सीट खाली हो गई है। ऐसे में अब 27 नहीं 28 सीटों पर उपचुनाव होगा। बीते महीने कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद उन्हें भोपाल स्थित चिरायु अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन हालत में सुधार न होने पर उन्हें दिल्ली स्थित मेदांता अस्पताल में रेफर कर दिया गया था। जहां बीते दिन इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया।

कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी की कोरोना से मौत, बीजेपी सांसद सिंधिया ने दी ये प्रतिक्रिया

ब्यावरा से कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी के निधन के बाद अब इस सीट पर भी सभी 27 सीटों के साथ उपचुनाव होंगे। हांलाकि अभी तारीखों का ऐलान नहीं हुआ है लेकिन राजनीतिक पार्टियों ने कमर कस ली है। ब्यावरा विधानसभा सीट से कांग्रेस किस उम्मीदवार को टिकट देगी और बीजेपी किस पर दाव लगाएगी इस पर इस हफ्ते फैसला हो सकता है।

Madhya Pradesh bypolls : अपनी साख बचाने के लिए फूंक-फूंक कर क़दम रख रहे कमलनाथ

ब्यावरा सीट खाली होने के बाद कांग्रेस और बीजेपी दोनों ने ही इस क्षेत्र में अपनी राजनीतिक गतिविधियां तेज कर दी है। बीते संघ के सर्वे में सामने आया था कि इस उपचुनाव में बीजेपी की राह आसान नहीं है और 27 में उसे करीब 23 सीटों पर शिक्सत का सामना करना पड़ सकता है। वहीं अब ये संख्या बढ़कर 28 हो गई है।

Also Read:  Madhya Pradesh Sindh River: Is Sand Mining Killing Our Rivers?

मध्य प्रदेश उपचुनाव की पूरी कमान कमलनाथ ने संभाल रखी है

दूसरी ओर कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को कदम-कदम पर विरोध प्रदर्शन का सामना करना पड़ रहा है। चंबल की 16 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के दौरान रैलियां कर रहे सिंधिया का न सिर्फ कांग्रेस कार्यकर्ता विरोध कर रहे हैं बल्कि बीजेपी में उन्हें लेकर अंदरुनी कलह बनी हुई है। क्योंकि कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए 22 बागी विधायकों के बाद बीजेपी के अपने उम्मीदवार और क्षेत्र के कद्दावर नेताओं के राजनीतिक भविष्य पर तलवार लटक चुकी है।

मध्य प्रदेश उपचुनाव 2020: 24 सीटों के लिए कांग्रेस की प्लानिंग, कमलनाथ को मिली ये दो अहम जिम्मेदारी

बहरहाल, देखना होगा कि इस उपचुनाव में शिवराज-सिंधिया फैक्टर कितना सार्थक साबित होता है और कमलनाथ की रणनीति क्या रंग लाती है। चुनाव आयोग पहले ही साफ कर चुका है कि मध्य प्रदेश में उपचुनाव बिहार चुनाव के साथ ही होंगे। चुनाव आयोग ने कहा है कि नवंबर से पहले-पहले चुनाव होंगे हांलाकि तारीख की घोषणा अभी नहीं की गई है लेकिन उम्मीद जताई जा रही है कि मध्य प्रदेश में 15 नवंबर तक उपचुनाव हो सकते हैं।

मध्य प्रदेश उपचुनाव : शिवराज का कमलनाथ-दिग्विजय पर निशाना कहा, वल्लभ भवन को दलालों का अड्डा बना दिया

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups