Home » मध्य प्रदेश उपचुनाव : भाजपा, कांग्रेस और बासपा कार्यकर्ताओं पर इस कारण दर्ज हुई FIR..

मध्य प्रदेश उपचुनाव : भाजपा, कांग्रेस और बासपा कार्यकर्ताओं पर इस कारण दर्ज हुई FIR..

मध्य प्रदेश उपचुनाव : सुबह 9 बजे तक 28 सीटों पर इतना रहा मतदान प्रतिशत
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

बुरहानपुर, नेपानगर : कांग्रेस प्रत्याशी रामकिशन पटेल को सोमवार को समर्थन करने आए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के काफिले को भाजपा महिला मोर्चा के द्वारा उन्हें काले झंडे दिखाकर नारेबाजी की गई। कमलनाथ के विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस कर रही थीं। दरअसल फुल मुख्यमंत्री कमलनाथ ने टिप्पणी करते हुए भाजपा के प्रत्याशी एवं मंत्री इमरती देवी को आइटम कह दिया था। इसी कारणवश मध्य प्रदेश के कई शहरों में उनके खिलाफ प्रदर्शन किए जा रहे थे। इसमें पूर्व मंत्री चिटनीस, जिलाध्यक्ष लधवे सहित अन्य नेता शामिल थे। वही भाजपा कांग्रेस और बासपा के कार्यकर्ताओं पर हुई कार्रवाई। 38 भाजपा कार्यकर्ताओं पर रिटर्निंग अधिकारी ने केस दर्ज कर लिया गया है।

मध्य प्रदेश उपचुनाव : एक क्लिक में समझें नेपानगर विधानसभा सीट का चुनावी समीकरण

पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस,भाजपा उपाध्यक्ष नरहरि दीक्षित, पूर्व विधायक व चुनाव प्रभारी गोपीकृष्ण नेमा, , जिलाध्यक्ष मनोज लधवे, पूर्व महापौर माधुरी पटेल, नगर पालिका अध्यक्ष राजेश चौहान, उपाध्यक्ष वैशाली पाटील,  पूर्व जिलाध्यक्ष दिलीप श्राफ, मंडल अध्यक्ष विक्रमसिंह चौहान, पूर्व मंडल अध्यक्ष संजय विजयवर्गीय, राजा जंगाले, पवन, अरुण सोनी, कमलेश पांजरे, रमेश कैथवास, प्यारेलाल, कविता मोरे, सावित्री बत्रा, उमा कपूर, संध्या मधवाने, किरण रायकवार, शिखा विजयवर्गीय, नम्रता मालगुजार, नम्रता दवे, सुनीता वाजपेयी, लता दवे, प्रदीप दवे, दुर्गासिंह ठाकुर, सचिन गोपाल, गिरीश निकम, नरेश वारूले, निलेश महाजन, नवनीत दुबे, आनंदा पाटील, पूर्व पार्षद जगदीश कपूर, बलराज नावानी, करूणा भट्‌ट और कविता मोरे सहित 38 कार्यकर्ताओं पर एफआईआर दर्ज हुए हैं। धारा 188 उल्लंघन, धारा 269 महामारी रोग प्रतिबंध उल्लंघन, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 56, महामारी अधिनियम 1897 की धारा 3 के अंतर्गत प्रकरण दर्ज हुए हैं।

पूर्व मंत्री जेल जाने तक के लिए है तैयार

पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस के खिलाफ पुलिस द्वारा प्रकरण दर्ज किया गया। जिसके बाद पूर्व मंत्री अर्चना चिटनिस न्यू वीडियो जारी करते हुए कहा की महिलाओं के सम्मान में किए गए विरोध के लिए जेल भी जाना पड़े तो जाएंगे। दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा के प्रत्याशी एवं मंत्री इमरती देवी को आइटम कह दिया था। जिसके बाद उनके खिलाफ विद्रोह प्रदर्शन किए जा रहे हैं।  अर्चना चिटनीस ने यह भी कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने जो अपशब्द कहा उन्हें उसके लिए शर्म आनी चाहिए।

भाजपा, कांग्रेस और बासपा कार्यकर्ताओं पर हुई FIR

उपचुनाव में हो रही राजनीतिक सभाएं, कार्यकर्ता सम्मेलन, विरोध प्रदर्शन में जुटी भीड़ से कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है। हालांकि तभी कई लोग नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं जिस कारण से कई कार्यकर्ताओं के ऊपर प्रकरण दर्ज हुए हैं। 13 अक्टूबर को नामांकन भरने के दौरान सभा और रैली में नियमों का उल्लंघन होने पर कांग्रेस द्वारा नेपानगर नगर अध्यक्ष सोहन सैनी और जगमीतसिंह जॉली सहित भाजपा के संजय अहिरे पर एफआईआर दर्ज करवाई गई । वहीं दूसरी ओर बहुजन समाज पार्टी एक प्रतिनिधि पर भी पहले केस दर्ज हो चुके हैं। 18 अक्टूबर को दर्यापुर में हुई राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की सभा में कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन होने पर पूर्व भाजपा मंडलाध्यक्ष संजय विजयवर्गीय पर केस दर्ज किया गया था।

दिग्विजय बोले- बीजेपी चुनाव अधिकारियों के दम पर जीतना चाहती है मप्र उपचुनाव

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।