अस्पताल में नहीं था कोई डॉक्टर, भर्ती कराने के लिए भकटता रहा बेबस पिता लेकिन मासूम बच्ची ने गोद में तोड़ा दिया दम

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Lucknow: पिता संदीप कुमार शुक्ला की 5 महीने की बच्ची नित्या घर में तख्त पर सो रही थी और सोते समय वह तख्त से नीचे जा गिरी जिससे उस बच्ची के काफी चोट आ गई और बच्ची नित्या की हालत बहुत ज्यादा गंभीर हो गई। पिता संदीप कुमार अपनी बेटी को लिए लखनऊ स्थित सयुंक्त चिकित्सालय पहुँचा वहां डॉक्टर के न होने से उसकी बेटी ने गोद मे ही दम तोड़ दिया वो बेटी को बचाने के लिए इधर उधर गुहार लगाये भटक रहा था लेकिन किसी डॉक्टरों ने उसकी न सुनी। क्योंकि वहाँ सही समय पर डॉक्टर मौजूद ही नही थे।

लखनऊ के डॉक्टरों की लापरवाही ने ली बच्चे की जान

लखनऊ से सटे सभी डॉक्टरों की लापरवाही सामने आई है।इमरजेंसी वार्ड में रविवार के दिन ड्यूटी पर डॉक्टर के नहीं होने पर और इलाज नहीं मिलने पर 5 महीने की बच्ची ने पिता की गोद में दर्द से तड़प कर दम तोड़ दिया, बच्ची की मौत के बाद परिजनों ने जम कर हंगामा काटा, लेकिन किसी ने सुनवाई नहीं की सूचना पर पहुंची पुलिस ने हंगामा कर रहे परिजनों को समझा-बुझाकर वापस भेज दिया और कोई कार्यवाही नही की।

READ:  UP police planted illegal firearm in Gulzar's shop to frame him in fake case

बच्चे के दम तोड़ देने पर बाल अधिकारी ने कहा कि कारवाही की जाएगी

चिकित्सालय में ये घटना एक बच्ची के साथ हो जाने पर बाल अधिकारी ने इस पर कहा कि कार्यवाही की जाएगी और उन्हें सजा भी दी जायेगी अस्पताल के किसी कर्मचारी ने इतनी छोटी बच्ची की देखभाल भी नहीं की। वो भी इसलिए क्योंकि वहां पर सही समय पर डॉक्टर मौजूद नही थे जिसके चलते उस चिकित्सालय के कर्मचारियों ने भी उस बच्ची को नही लिया और इस पर सरकार भी कहना है कि ऐसे चिकितसालयों के डॉक्टरों पर जल्द से जल्द कार्यवाही की जाये जिससे ये डॉक्टर अगली बार से ऐसी हरकत न कर पाएं।

READ:  एक घर में 4 शव मिलने से हड़कंप, पुलिस की तफ्तीश जारी

%d bloggers like this: