Home » HOME » सभी छात्र संगठन लें “भारत बंद” में हिस्सा: LPC, JNU

सभी छात्र संगठन लें “भारत बंद” में हिस्सा: LPC, JNU

भारत बंद की एडवाइज़री
Sharing is Important

LPC, JNU: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र संगठन लिबरल पीपल्स कांफ्रेंस(LPC JNU) ने किसानों के भारत बंद का पूर्ण समर्थन किया है। एलपीसी ने एक प्रेस रिलीज़ जारी कर जानकारी दी कि एक ज़िम्मेदार छात्र संगठन होने के नाते वह अन्नदाता किसानों का पूर्ण समर्थन करते हैं। सरकार द्वारा पास किये गए तीन कृषि कानूनों को एलपीसी ने “काला कानून” बताया। इस प्रेस विज्ञप्ति में पिछले दिनों सरकार द्वारा किये गए किसानों पर लाठीचार्ज, आंसू गैस और वाटर कैनन को निंदनीय बताया गया।

Bharat Bandh On Dec 8 : गुजरात में नहीं होगा ‘भारत बंद’ : CM विजय रुपाणी

एलपीसी(LPC, JNU) ने देशभर के लोगों से इस बंद में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने की भी अपील की। साथ ही उन्होंने देश के सभी छात्र संगठनों से भारत बंद में हिस्सा लेने की अपील की है। आपको बता दें पिछले लगभग 12 दिन से किसान दिल्ली के टिकरी, सिंघु और ग़ाज़ीपुर बॉर्डर को ब्लॉक किये हुए हैं। किसानों की मांग है कि पास किये गए नए कृषि कानूनों को सरकार जल्द से जल्द वापस ले।

READ:  संकट में है सीहोर-भोपाल टैक्सी सर्विस, कई ड्राइवर फल सब्ज़ी के लगा रहे ठेले

कृषि संशोधन बिल के विरोध में पंजाब का किसान इतना एकजुट क्यों ?

एलपीसी, जेएनयू(LPC, JNU) का एक नव-स्थापित संगठन है जो पिछले साल जेएनयू में बढ़ी फ़ीस के ख़िलाफ़ हुए आंदोलन में जन्मा था। यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ़ इंटरनेशनल स्टडीज़ के अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध(आईआर) के छात्रों द्वारा शुरू किया गया एलपीसी लेफ़्ट और राइट के ख़िलाफ़ विचारधारा रखने वाले छात्रों का एक समूह है। एलपीसी के सदस्यों का कहना है कि संगठन की शुरुआत लेफ़्ट और राइट विचारधारा से हटकर एक स्वतंत्र विचारधारा को बढ़ावा देने के लिए की गयी है। छात्र अपना पक्ष बेबाकी से रख पाएं और एक अच्छी सोच का जन्म हो सकें यही एलपीसी उद्देश्य है।

READ:  Diwali Wishes in Hindi, 10 Best Diwali greetings and status

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।