लोकसभा चुनाव 2019 के लिए I-PAC की रणनीति तैयार, PM मोदी को मिलेगा प्रशांत किशोर का साथ!

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली, 13 जुलाई। साल 2014 में हुए आम चुनाव यानी लोकसभा चुनाव के दौरान सुर्खियों में प्रशांत किशोर अब लोकसभा चुनाव 2019 की तैयारियों में जुट गए हैं। चुनाव के चाणक्य कहे जाने वाले प्रशांत किशोर और उनकी पॉलिटिकर पब्लिक रिलेशन कंपनी को लेकर अटकलें लगाई जा रही है कि इस बार प्रशांत किशोर  पीएम मोदी के लिए चुनावी कैंपेन डिजाईन कर सकते हैं, वहीं दूसरी ओर चर्चा के बाजार में इस बात की भी अटकलें लग रही है कि प्रशांत कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भी सपोर्ट कर सकते हैं।

लॉन्च किया नेशनल एजेंडा फोरम
हांलाकि प्रशांत किशोर की कंपनी आईपेक ने एक नेशनल एजेंडा फोरम लॉन्च कर नई अटकलों को हवा देने का काम किया है। दरअसल, नेशनल एजेंडा फोरम के तहत देश के लोगों को चार सूत्री एजेंडे पर आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करने की योजना बनाई गई है। नेशनल एजेंडा फोरम में देशभर के करीब 25,000 युवाओं को जोड़ा गया है।

बेहतर एजेंडा तय करने की योजना
ये लोग देशभर के 500 से ज्यादा जिलों और करीब 1500 कॉलेजों के 25 हजार छात्र हैं। हांलाकि योजना करीब 1 करोड़ युवाओं को जोड़ने की है। इस फोरम के तहत महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के मौके पर देश के लोगों के सामने एक बेहतर एजेंडा तय करने की योजना बनाई जाएगी।

…तो देश के सामने होगा नया विकल्प
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक डिजायन किए गए इस कैंपने में प्रशांत किशोर की रणनीति है कि वो लोगों के अपने देश का नेता चुनने का विकल्प देंगे। इस प्रोग्राम के मुताबिक, 11 जुलाई 2018 से देश के सामने अहम प्राथमिकता और नेता चुनने के लिए वोटिंग की शुरुआत की हो चुकी है। इसके नतीजे 15 अगस्त को आएंगे। ये फाइनल एग्जाम यानी 2019 आम चुनाव से पहले प्रीबोर्ड की परीक्षा जैसा है।

गाँधी के भारत का सपना होगा साकार
महात्मा गांधी के 150 जयंती वर्ष के मौके पर इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी (I-PAC) गाँधी जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके सबसे जरुरी विचारों पर नए सिरे से चर्चा का माहौल तैयार करना चाहता है। गाँधी जी ने अपने लम्बे अनुभव के बाद साल 1945 में देश के साथ जो 18 सूत्रीय रचनात्मक साझा किए हैं उन रचनात्मक कार्यक्रमों को आधार बनाकर I-PAC अपने 25000 से ज्यादा एसोसिएट्स और वॉलेंटियर्स के साथ एक ऐसी देशव्यापी पहल की शुरुआत कर रहा है जिससे गांधी के बताये रास्ते के आधार पर आज के भारत का एजेंडा तय किया जा सके।

भारत के इतिहास में पहली बार होगा ऐसा
गाँधी जी के इसी कार्यक्रम से प्रभावित हो कर I-PAC ने नेशनल एजेंडा फोरम (NAF) लॉन्च किया है। इस अभियान के अंतर्गत भारत के इतिहास में पहली बार पांच करोड़ नागरिक अपने देश का एजेंडा बनाएंगे और उसे पूरा करने के लिए एकजुट होकर एक नेता का चुनाव करेंगे। हांलाकि, देखना होगा कि अंत में प्रशांत किशोर बीजेपी का दामन थामेंगे या वो कांग्रेस की नैया पार करने के लिए राहुल गांधी के केवट बनेंगे।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.