Home » Bhopal – एलएन मेडिकल कॉलेज में विश्व स्तनपान जागरुकता अभियान का आयोजन

Bhopal – एलएन मेडिकल कॉलेज में विश्व स्तनपान जागरुकता अभियान का आयोजन

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भोपाल- एलएनसीटी विश्वविद्यालय के एलएन मेडिकल कॉलेज(LN medical college) में बाल एवं शिशु रोग विभाग(Children’s pediatric department) तथा स्त्री रोग विभाग (gynecology department) द्वारा 1 अगस्त से 7 अगस्त तक विश्व स्तनपान सप्ताह(world’s breastfeeding week) मनाया गया। इस दौरान पोस्टर एवं स्लोगन प्रतियोगिता(poster and slogen competition) का आयोजन भी किया गया जिसमें छात्र-छात्राओं ने प्रतियोगिता(competition) मे भाग लेकर स्तनपान(breastfeeding) से संबंधित महत्वपूर्ण संदेशो के साथ पोस्टर बनाये।

सप्ताह के अंतिम दिन कॉलेज के सभाग्रह मे एक सेमीनार का आयोजन भी किया गया जिसमें डॉ. सरला मेनन ( मेडिकल डायरेक्टर), डॉ. नलिनी मिश्रा (डीन) डॉ. रश्मि द्विवेदी (विभागाध्यक्ष, शिशु  एवं बाल रोग विभाग), डॉ. पूजा पाटील (विभागाध्यक्ष, स्त्री रोग विभाग) सहित  फैक्लटी एवं छात्र शामिल हुए। सेमीनार में अतिथि वक्ताओ ने संदेश दिया कि बच्चों के स्वास्थ्य और अस्तित्व को सुनिश्चित करने के लिए स्तनपान सबसे प्रभावशाली तरीका है। स्तनपान शिशु की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने मैं मदद करता है एवं शिशु मृत्यु दर कम करता है। इसी संदेश को प्रसारित करने के लिए स्त्री रोग विभाग के डॉक्टरों द्वारा नाटकीय रुपांतरण प्रस्तुत किया गया। इसके उपरांत श्रेष्ठ पोस्टर एवं संदेश लिखने वाले प्रतिभागियों को पुरुस्कार वितरित किये गये। इस सप्ताह के दौरान गर्भवती तथा प्रसवोत्तर महिलाओं को सही तरीके से स्तनपान कराने का परामर्श भी दिया गया।

READ:  Global warming increases disease: 'Our direction is wrong'

Uttar Pradesh double murder : गुस्से गुस्से में पत्नी को मारी गोली, बाद में खुद को भी गोली मारकर किया आत्मदाह

साथ ही यहां पर शल्य चिकित्सा नेत्ररोग, नाक, कान, गला रोग, स्त्री रोग, बाल रोग व पंचकर्म चिकित्सा के माध्यम से मरीजों के सफल उपचार किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में शल्य विभाग के चिकित्सक डॉ स्वाति जैन, डॉ निर्मला सावरकर, डॉ आशुतोष शुक्ला, डॉक्टर आदिल खान के कुशल निर्देशन में शल्य कर्म सर्जरी द्वारा जटिल रोगों जैसे बवासीर (पाईल्स), भगंदर (फिस्टूला), परिकर्तिका (फिशर), गुदागत फोडा (एनोरेक्टल एब्सेस), नासुर (साईनस) की सफलता की जा रही है।

Uttar Pradesh rape case : मां बाप की डांट के कारण छोड़ा नाबालिग ने घर, तीन लोगों  ने किया बलात्कार

आपको बता दें हाल ही में जटिल भगंदर व्याधि की शल्य चिकित्सा आयुर्वेद की प्रसिद्ध विद्या क्षारसूत्र बंधन विधि द्वारा की गई जिसमें टेक्नीशियन कपिल बाघ एवं नर्सिंग स्टाफ विजय परमार व प्रतिमा का भी सहयोग रहा है। शल्य विभाग की इस उपलब्धि का महाविद्यालय के प्राचार्य डॉक्टर सपन जैन व निर्देशक डॉ विशाल शिवहरे ने शल्य विभाग को अपनी शुभकामनाएं प्रेषित की। व रोगियों से अधिक से अधिक संख्या में चिकित्सा लाभ लेने हेतु अपील की।

READ:  Jaipur rape case : बच्ची से दरिंदगी करने वालों को कोर्ट ने सुनाई 20 साल की सजा, 5 दिन में पहुंचाया अपराधियों को जेल के भीतर

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।