Home » चिराग पासवान के घर में आज लोजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक ! दल के मुखिया पर फैसला संभव ?

चिराग पासवान के घर में आज लोजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक ! दल के मुखिया पर फैसला संभव ?

Chirag Paswan के घर में आज लोजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक !
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk | Chirag Paswan | National executive meeting today at chirag paswan residence | लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के नेता चिराग पासवान आज नई दिल्ली में अपने आवास पर पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक कर रहे हैं। इस हफ्ते उनके चाचा द्वारा पार्टी में हुए पासवान के खिलाफ विद्रोह की वजह से यह बैठक काफी मत्वपूर्ण है। लोजपा के छह सांसद है जिसमे की पांच ने पशुपति पारस को अपना पार्टी अध्यक्ष मान लिया है।

हालाकिं, पारस के खेमे वाले ये दावा कर रहे हैं की पार्टी अध्यक्ष ना होने के कारण पासवान अब कार्यकारिणी बैठक नहीं बुलवा सकते। पार्टी के समर्थकों के मुताबिक, दल में फूट पड़ने के बावजूद पासवान की पकड़ अभी भी पार्टी में ज़्यादा मज़बूत है। कार्यकारणी के 90 % व्यक्ति पासवान को ही समर्थन देते है। चिराग का कहना है की पार्टी के खिलाफ गतिविधि करना गलत कृत्य है। पासवान ने तर्क दिया है कि केवल पार्टी का संसदीय बोर्ड ही लोकसभा में उसके नेता पर फैसला ले सकता है।

READ:  Digvijay's taunt on Bhagwat's statement of DNA

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगा यौन शोषण का आरोप !

चिराग ने अब चुनाव आयोग की तरफ रुख लिया है, जो की पार्टी की नेतृत्वकर्ता का फैसला करेगी। पार्टी में पिछले रविवार को विभाजन हुआ जब लोजपा के छह सांसदों में से पांच ने पारस को अपना नेता चुना और यहां तक कि पारस को ही लोक सभा में पार्टी के नेता के रूप में मान्यता देने के लिए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से याचिका दायर की। इसके बाद लोकसभा ने अगले दिन एक नोटिस भी जारी किया। अपनी बात रखने के लिए चिराग शनिवार को ओम बिड़ला से मिले जहाँ उन्होंने दावा किया की दूसरा गुट पारस को अपना नेता नहीं बना सकता।

चुनाव में बिहार में हुई कुल वोटिंग में से 6 % वोट बैंक पासवान के हाथों में है,भाजपा की बिहार यूनिट का मानना है की पारस का ये कदम पूरे दल के लिए काफी महंगा साबित हो सकता है। पार्टी संस्थापक, राम विलास पासवान, की मृत्यु के बाद से चिराग राष्ट्रीय अध्यक्ष है और दल में उनकी लोकप्रियता भी सबसे ज़्यादा है, ऐसे में उनके चाचा पारस द्वारा किया गया ये विद्रोह ने राजनीतिक हलचल बढ़ा दी है।

READ:  Afghanistan calls India a true friend and Modi a wise leader

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।