Home » HOME » Lakshmi Bomb: अक्षय कुमार को क्यों बदलना पड़ा अपनी फिल्म का नाम?

Lakshmi Bomb: अक्षय कुमार को क्यों बदलना पड़ा अपनी फिल्म का नाम?

lakshmi bomb film name changed
Sharing is Important

अक्षय कुमार की 9 नवंबर को रिलीज़ होने वाली फिल्म Lakshmi Bomb अब नए नाम लक्ष्मी से जानी जाएगी। कई हिंदूवादी संगठनों के विरोध के बाद फिल्म का नाम बदलने का फैसला लिया गया है। यह जानकारी फिल्म समीक्षक कोमल नाहटा ने ट्वीट कर दी है।

ALSO READ: Scarlett Johansson : Black Widow के नाम से विश्वभर में जाने जानी वाली एक्ट्रेस स्कारलेट जोहैनसन क्यों हैं सुर्खियां में ?

Lakshmi Bomb- फिल्म के बारे में

फिल्म लक्ष्मी (Lakshmi Bomb) में अक्षय कुमार के साथ कियारा आडवाणी मुख्य भूमिका में है। यह फिल्म डिज़नी हॉटस्टार पर 9 नवंबर को रिलीज़ होगी। लक्ष्मी तमिल फिल्म कंचाना का रीमेक है। आप जानते ही हैं कि कोरोना महामारी की वजह से सभी फिल्में ओटीटी प्लैटफॉर्म पर ही रिलीज़ की जा रही है। कई शहरों में सिनेमा हॉल खोले गए हैं लेकिन अभी कोई भी फिल्म निर्माता बड़े स्क्रीन पर फिल्म रिलीज़ करने का जोखिम नहीं उठाना चाहता। डिजीटल प्लैटफॉर्म पर फिल्म रिलीज़ करना भी फिल्मनिर्माताओं की मजबूरी है। लेकिन ऐसे कठिन समय में डिजीटल प्लैटफॉर्म ही एक मात्र रास्ता भी हैं। फिल्म को लेकर कोई रिस्क निर्माता नहीं उठाना चाहते हैं। शायद इसलिए विरोध होने पर फिल्म का नाम बदलने का फैसला कर लिया गया।

READ:  Why #WeStandWithSuriya is trending?

ALSO READ: Scam 1992 A Must Watch Web Series With 9.6 IMDb Rating

क्यों हो रहा है विरोध?

हिंदूवादी संगठन हिंदू सेना ने सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिखकर इस फिल्म का विरोध दर्ज किया था। इसके अलावा हिंदू जनजागृति समिति और अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने फिल्म को लव जेहाद को बढ़ावा देने वाला बताया था । राजपूत करनी सेना ने फिल्म (Lakshmi Bomb) का नाम बदलने की मांग की थी क्योंकि उनका मानना है कि लक्ष्मी देवी हैं और उनके नाम में बॉम्ब जैसे शब्द का इस्तेमाल उनका अपमान करना है।

फिल्मों का विरोध हुआ आम

आपको बता दें कि लक्ष्मी नाम से दिवाली पर एक पटाखा देश भर में बेचा जाता रहा है जिसको हर बच्चा लक्ष्मी बॉम्ब (Lakshmi Bomb) के नाम से ही जानता है। यह पटाखा हर बच्चे का प्रिय रहा है क्योंकि इसकी आवाज़ से दिवाली की मस्ती दोगुनी हो जाती थी। अभी तक लक्ष्मी नाम से बेचा जाने वाला यह पटाखा प्रतिबंधित नहीं हुआ है। लेकिन क्योंकि फिल्म इंडस्ट्री इन संगठनों का सॉफ्ट टारगेट रही हैं इसलिए विरोध किया जाता रहा है। इससे पहले विरोध के बाद बिल्लू बारबर का नाम बदलकर बिल्लू रखना पड़ा था। साथ ही पद्मावत को लेकर हुए विरोध प्रदर्शन तो तोड़फोड़ तक पहुंच गए थे। भारत में ऐसे कई उदाहरण मौजूद हैं और यह नई बात नहीं है। हाल ही में तनिष्क के विज्ञापन पर भी विवाद हुआ था जिसे विरोध के बाद हटा लिया गया था।

READ:  Why Justice For Umar Riaz is trending?

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups