स्वास्थ्य मंत्री बोले किसान आंदोलन की वजह से बढ़ रहा कोरोना

किसान आंदोलन और कोरोना
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कोरोना वायरस के रोज़ बढ़ते मामलों के लिए शादियों, स्थानीय चुनावों और किसान आंदोलन को ज़िम्मेदार ठहराया है। उन्होंने बंगाल समेत पांच राज्यों में हो रहे चुनाव और वहां हो रही प्रधानमंत्री और केंद्रीय मंत्रियों की बड़ी-बड़ी रैलियों को इससे बाहर रखा।

देश के 11 राज्यों में तेज़ी से कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। केंद्र सरकार ने उन राज्यों की सूची जारी की जहां कोरोना की स्थिति गंभीर हैं। यह राज्य हैं महाराष्ट्र, पंजाब, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल, झारखंड, कर्नाटक, मध्यप्रदेश और राजस्थान। इन राज्यों में मामलों के बढ़ने के साथ ही मौतों की संख्या भी बढ़ रही है। सरकार के लिए राहत की बात यह है कि इनमें से किसी राज्य में विधानसभा चुनाव नहीं है। और न ही किसान आंदोलन इन राज्यों में हो रहा है।

READ:  प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया बंगाल रैली का वीडियो तो जनता बोली शर्म नहीं आती

ALSO READ: क्या कोरोना की दूसरी लहर की वजह आपको पता है?

अहम बातें-

  • 11 राज्य ही अकेले 54 प्रतिशत कुल मामलों के जिम्मेदार हैं और कोरोना से होने वाली 65 प्रतिशत मौतें भी इन राज्यों में हो रही है।
  • महाराष्ट्र में संक्रमण दर सबसे ज्यादा 25 प्रतिशत है तो वहीं छत्तीसगढ़ में यह 14 प्रतिशत है।
  • भारत में कोरोना वायरस के 1 लाख 15 हजार 320 नए मामले दर्ज किए गए हैं जिसके बाद देश में कुल मामले बढ़कर 1 करोड़ 17 लाख 89 हजार 781 तक पहुंच गई है।
  • संक्रमितों में से अधिकांश लोग 15 से 44 साल की उम्र के हैं। इसके साथ ही कोरोन से जान गंवाने वाले अधिकतर लोगों की उम्र 60 या उससे ज्यादा है।
  • देश में कोरोना से होने वाली मौतों की दर अब 1.30 प्रतिशत तक पहुंच गई है।
READ:  दिल्ली में 12 लाख लोग लगवा चुके हैं कोरोना का टीका, 87000 प्रतिदिन पहुंचा आंकड़ा

ALSO READ: Delhi Night Curfew: केवल इन कामों के लिए जा सकेंगे घर से बाहर

तो क्या चुनावी राज्यों से भाग गया है कोरोना

अचरज की बात यह है कि जिन राज्यों में वोट डाले जा रहे हैं वहां कोरोना के मामले सरकार के अनुसार ज़्यादा नहीं है। यह राज्य हैं बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुड्डूचेरी।

इन राज्यों में इतनी भीड़ इक्ट्ठा की गई जिसे देखकर यह नहीं कहा जा सकता कि नेताओं को आम आदमी की जान की कोई फिक्र है।

बच्चों के स्कूल, कॉलेज और शिक्षण संस्थानों को बंद किया जा रहा है लेकिन नेताओं की रैलियां जारी है।

READ:  States, UTs can impose local curbs to control rising covid-19 cases: Centre

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.