किसान आंदोलन दिल्ली

अमित शाह की शर्त किसानों ने ठुकराई, कहा खुली जेल में डालना चाहती है सरकार

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दिल्ली में चल रहा किसान आंदोलन सरकार के लिए मुसीबत बनता जा रहा है। छह राज्यों के 500 संगठनों से जुड़े किसान दिल्ली के सिंघु और टिकरी सीमा पर डटे हुए हैं तो वहीं, यूपी सीमा पर भी किसान हजारों की संख्या में डेरा डाले हुए हैं। गृह मंत्री अमित शाह ने किसानों से अपील की थी कि किसान बॉर्डर से हटकर बुराड़ी ग्राउंड चले जाएं।

आंदोलन कर रहे किसानों ने केन्द्र सरकार के प्रस्ताव को खारिज कर दिया। किसान नेता हरमीत सिंह कादियां ने कहा कि हमने फैसला लिया कि सभी बॉर्डर और रोड ऐसे ही ब्लॉक रहेंगे। गृह मंत्री ने शर्त रखी थी कि अगर हम मैदान में धरना देते हैं तो वो तुरंत मीटिंग के लिए बुला लेंगे। हमने शर्त खारिज़ कर दी है। अगर वो बिना शर्त के मीटिंग के लिए बुलाएंगे तो ही हम जाएंगे।

READ:  Look at agricultural law as an experiment for two years: Rajnath Singh

क्या होगा अब आगे?

किसानों ने कहा कि वो दिल्ली बॉर्डर पर ही प्रदर्शन करते रहेंगे। बातचीत के लिए रखी गई शर्त से किसान अपमानित महसूस कर रहे हैं। तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान दिल्ली में बुराड़ी ग्राउंड पर नहीं जाएंगे। दिल्ली बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शन की वजह से आम जतना की परेशानी को देखते हुए सरकार ने बुराड़ी ग्राउंड पर शिफ्ट होने की अपील की थी लेकिन किसानों ने इस शर्त को मानने से इंकार कर दिया है।

दिल्ली में किसानों का जमावड़ा बढ़ता ही जा रहा है। एक तरफ जहां दिल्ली के सिंघु और टिकरी सीमा पर हरियाणा और पंजाब के किसान डटे हुए हैं तो वहीं, यूपी सीमा पर भी हजारों की संख्या में किसान डेरा डाले हुए हैं। आने वाले दिनों में और भी किसानों के दिल्ली आने की संभवना जताई जा रही है।

READ:  Delhi Police tweets Kejriwal's picture denying house arrest claims

अगर सरकार ने जल्द किसानों को बिना शर्त बातचीत के लिए नहीं बुलाया तो यह आंदोलन देश का सबसे बड़ा किसान आंदोलन बन जाएगा। देश के अन्य राज्यों में भी किसान अब मंडी और एमएसपी खत्म होने जैसी समस्या को लेकर आवाज़ उठाने लगे हैं।

यह भी पढ़ें-

READ:  Corona Vaccine कोरोना वैक्सीन को लेकर राहत भरी खबर, ऑक्सफोर्ड ने दी खुशखबरी!

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें [email protected] पर मेल कर सकते हैं।