Kanpur: कानपुर मेट्रो प्रोजेक्ट का काम शुरू, राज्य सरकार ने दिये 100 करोड़

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

लंबे समय से अटका कानपुर मेट्रो प्रोजेक्ट अब आगे बढ़ता नज़र आ रहा है. कानपुर नगर की जीटी रोड़ पर मेट्रो के संचालन के लिय ट्रांसपोर्ट मिनिस्ट्री से हरी झंडी मिल गई है. प्रोजेक्ट को हरी झंडी मिलने के बाद आईआईटी से मोतीझील के बीच प्रोजेक्ट पर काम शुरू करने लिय मेट्रो टीम तैयारी में जुट गई है.

पहले फेज़ में जिन स्टेशनों का निर्माण किया जाना है- आईआईटी, कल्याणपुर रेलवे स्टेशन, एसपीएम, सीएसजेएमयू, गीता नगर, रावतपुर रेलवे स्टेशन, गुरूदेव पैलेस शामिल हैं. लखनऊ मेट्रो रेल कार्पोरेशन जीटी रोड पर मेट्रो वर्क शुरू कर सकता है. इसके लिए मिनिस्ट्री ने सहमति दे दी है. जल्द ही एनओसी लेटर भी मिल जाएगा”

सुपरिटेंडेंटड इंजीनियर-एसए उस्मानी

शिवपुरी: खुले में शौच पर दलित बच्चों की पीट-पीट कर हत्या, इंसानियत शर्मसार

मेट्रो प्रोजेक्ट का काम शुरू होने में सबसे बड़ी रूकावट जीटी रोड की एनओसी थी. इस प्रॉयरिटी सेक्शन में करीब 7 किलोमीटर मेट्रो जीटी रोड पर दौड़ेगी. जीटी रोड पर एलीवेटेड ट्रैक और 7 मेट्रो स्टेशन बनाए जाने है. केवल एलीवेटेड वायाडक्ट बनाने के लिए आईआईटी से मोतीझील के बीच जीटी रोड रोड पर मिड सेक्शन में 3 मीटर जमीन चाहिए. इसकी जगह एलएमआरसी जीटी रोड की वाइडनिंग करेगा.

UNGA : भारत और पाकिस्तान आज वहीं खड़े हैं जहां 1939 में यूरोप खड़ा था: इमरान

सिटी लेवल पर पीडब्ल्यूडी एनएच से उसे सहमति मिल गई थी. इसके बाद सेंट्रल रोड ट्रांसपोर्ट मिनिस्ट्री से काफी प्रयासों के बाद जीटी रोड के लिए ग्रीन सिग्नल मिल सका है. कानपुर में मेट्रो संचालन के लिय शहर में दो कॉरिडोर हैं. मेट्रो के पहले फेज़ में कानपुर आईआईटी से मोतीझील के बीच संचालन किया जाएगा. इस पहले सेक्शन में 734 करोड़ रुपये की लागत से एलीवेटेड वायाडक्ट और 9 मेट्रो स्टेशन बनाने की तैयारी शुरू हो चुकी है.

file Photo

आयुष्मान योजना के तहत कानपुर के कार्डियोलॉजी में बच रही ग़रीबों की जान

स्टेट गवर्नमेंट ने कानपुर मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए 100 करोड़ रुपए जारी किए हैं. करंट फाइनेंशियल ईयर में लगभग इतनी ही धनराशि सेंट्रल गवर्नमेंट से भी मिलने की उम्मीद है. एलएमआरसी के एमडी कुमार केशव ने कहा मेट्रो प्रोजेक्ट में बजट की कोई समस्या नहीं है. स्वॉयल टेस्टिंग पहले ही हो चुकी है और एलएमआरसी ने यह रिपोर्ट भी काम करने वाली कम्पनी एफकांस को सौंप दी है.

Comments are closed.