Rape In Up : योगी का राम राज्य- दलित लड़की का रेप कर बेरहमी से हत्या

उत्तर प्रदेश बना ‘हत्या प्रदेश’ कानपुर में किडनैपिंग के बाद एक और मर्डर

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कानपुर में किडनैपिंग और संजीत अपहरण हत्या कांड का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा कि कानपुर देहात में अपहरण के बाद एक शख्स की बेरहमी से हत्या कर दी गई। बदमाशों ने फिरौती में 20 लाख रूपये की मांग की थी।

भाजपा विधायक ने सीधी चेतावनी देते हुए कहा- बकरीद पर नहीं होने देंगे क़ुर्बानी

उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में 17 जुलाई को किडनैप किए गए बृजेश पाल की लाश बरामद हो गई है। पुलिस ने यह भी खुलासा किया है कि उसके ही दोस्त ने हत्या कर दी थी। वजह यह थी कि बृजेश का दोस्त कर्ज़ में था। उसने बृजेश की हत्या के बाद शव कुएं में फेंका और कुछ घंटे बाद परिवार को 20 लाख की फिरौती के लिए कॉल किया था।

5 दिन के अंदर 20 लाख रुपये की थी मांग

थाना भोगनीपुर के अंतर्गत एक धर्मकांटे पर ड्यूटी करने गए बृजेश पाल का नाटकीय ढंग से अपहरण हो गया था। अपहरणकर्ताओं ने उसी के फोन से 5 दिन के अंदर 20 लाख रुपये की मांग की थी। घटना की जानकारी होते ही पुलिस ने बृजेश के भाई की तहरीर पर अपहरण की रिपोर्ट दर्ज करके तलाश शुरू कर दी थी। अब बृजेश का शव कुएं से बरामद किया गया है।


ये इंडिया की पुलिस है, हेल्मेट न लगाने पर माथे में बाइक की चाबी ठोक देती है

परिजनों का आरोप है कि अपहरणकर्ताओं की कॉल मिलते ही उन्होंने पुलिस को सारी जानकारी दे दी थी। लेकिन पुलिस ने उनके रिश्तेदारों को उठाकर ही पीटना शुरू कर दिया। घटना के 12 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस अपहरणकर्ताओं तक नहीं पहुंच सकी। परिजनों ने कानपुर देहात पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस मोबाइल लोकेशन ट्रेस कर अपहरणकर्ता के पास पहुंच जाती तो ब्रजेश की जान बच सकती थी।

फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी कानपुर किडनैपिंग मामले की सुनवाई

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले में सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने शोक संवेदना जताते हुए परिवार को पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की। कहा, इस जघन्य कांड में अपराधियों के विरुद्ध एनएसए (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) के तहत कार्रवाई पर विचार किया जाएगा। राज्य सरकार इस मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में करवाएगी, ताकि अपराधियों को जल्द से जल्द सजा दिलाई जा सके।

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups.