Home » मध्य प्रदेश उपचुनाव : मुश्किल में कमलनाथ, स्टार प्रचारक का छिना दर्जा

मध्य प्रदेश उपचुनाव : मुश्किल में कमलनाथ, स्टार प्रचारक का छिना दर्जा

मध्य प्रदेश उपचुनाव : मुश्किल में कमलनाथ, स्टार प्रचारक का छिना दर्जा
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश विधानसभा उपचुनाव में आचार संहिता का बार-बार उल्लंघन करने को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ को झटका लगा। गुरुवार को चुनाव आयोग ने राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का स्टार प्रचारक का दर्ज हटा दिया है। बता दें कि पिछले दिनों चुनाव प्रचार के दौरान राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री ने महिला मंत्री के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल किए थे, जिसके विरोधियों ने चुनाव आयोग से इसकी शिकायत की थी।

केंद्रीय निर्वाचन आयोग ने कांग्रेस अध्‍यक्ष और पूर्व सीएम कमल नाथ पर बड़ी कार्रवाई की है। आयोग ने कमल नाथ के बयानों पर संज्ञान लेते हुए इन्‍हें आपत्तिजनक माना है। आयोग ने कमल नाथ से स्‍टार प्रचारक का दर्जा भी छीन लिया है। कांग्रेस नेता विवेक तन्‍खा ने कहा है कि हम आयोग के इस आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएंगे।

शिवराज बोले – कमलनाथ के दाग़ बड़े गहरे हैं, दुनियाभर के वॉशिंग पाउडर से भी नहीं धुलेंगे

आयोग ने शुक्रवार को जारी एक आदेश में कहा, ‘…आदर्श आचार संहिता के बार-बार उल्लंघन और उन्हें (कमलनाथ को) जारी की गई सलाह की पूरी तरह से अवहेलना करने को लेकर आयोग मध्य प्रदेश विधानसभा के वर्तमान उपचुनावों के लिए मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के राजनीतिक दल के नेता (स्टार प्रचारक) का दर्जा तत्काल प्रभाव से समाप्त करता है।

READ:  Adani Ambani लॉकडाउन में हुए मालामाल जनता हुई कंगाल, बताओ कैसे?

आयोग ने कहा कि कमलनाथ को स्टार प्रचारक के रूप में प्राधिकारियों द्वारा कोई अनुमति नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा, ‘हालांकि, अब से यदि कमलनाथ द्वारा कोई चुनाव प्रचार किया जाता है तो यात्रा, ठहरने और दौरे से संबंधित पूरा खर्च पूरी तरह से उस उम्मीदवार द्वारा वहन किया जाएगा जिसके निर्वाचन क्षेत्र में वह चुनाव प्रचार करेंगे।

मध्य प्रदेश उपचुनाव : कांग्रेस नेता ने ऐसा क्या कहा जो भरे मंच पर रो पड़ी उम्मीदवार

गौरतलब है कि कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम ने एक चुनावी सभा में बीजेपी प्रत्याशी और मंत्री इमरती देवी को आइटम कह दिया था। चारों तरफ से घिरने के बाद पहले तो कमलनाथ ने कहा था कि आइटम को अपमानजनक शब्द नहीं है। उन्होंने कई अजीबो-गरीब तर्क देते हुए कहा कि विधानसभा और संसद में भी आइटम नंबर कहा जाता है। उन्होंने यह भी कहा कि वह नाम भूल गए थे और लिस्ट में आइटम नंबर 1, 2, 3 करके ही नाम लिखा जाता है। हालांकि, बात में उन्होंने अपने बयान पर खेद भी जताया।

READ:  Black Fungus मामले तेजी से क्यों बढ़ रहे हैं?

उधर, इमरती देवी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से गुहार लगाई थी कि कमलनाथ को पार्टी के सभी पदों से हटा दिया जाए। मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सोमवार को मौन उपवास भी रखा था। उन्होंने कहा था कि कमलनाथ को प्रदेश की हर बेटी से माफी मांगनी चाहिए।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।