गौ तस्करी के शक में जिंदा जला दिए गए जुनैद और नासिर: क्या है पूरी कहानी?

गुरुवार को हरियाणा के भिवानी में एक गाड़ी के अंदर दो मुस्लिम युवकों के जले हुए शव बरामद हुए। इन दोनों शवों की पहचान राजस्थान के भरतपुर जिले के घाटमीका के रहने वाले जुनैद और नासिर के रुप में हुई है। इन दोनों युवकों को गौतस्करी के शक में ज़िंदा जलाने का आरोप बजरंग दल के गौरक्षक मोनू मानेसर और उसके साथियों पर है, साथ ही परिवार वालों ने पुलिस की मिलीभगत का भी आरोप लगाया है।

क्या है पूरा मामला?

मृतक जुनैद 35 और नासिर 28 राजस्थान के जिला भरतपुर के घाटमीका गांव में रहते थे। ये गांव हरियाण बॉर्डर के करीब है।

नासिर के भाई मोहम्मद जाबिर के मुताबिक “नासिर गाड़ी ड्राईवर था और जुनैद की एक छोटी सी दुकान थी। दोनों उस दिन बुलैरो गाड़ी लेकर पास के भोरुबास सिकरी गांव में अपने रिश्तेदार से मिलने गए थे। बुधवार 15 फरवरी को सुबह घर आ रहे थे। रास्ते में गोपालगढ़ के पास इनकी गाड़ी को सीआईए ने रोककर पूछताछ की। वहां बजरंग दल के लोग भी मौजूद थे। यह देखकर जुनैद और नासिर ने गाड़ी आगे बढ़ाई।”

“इनको भागता देख सीआईए हरियाणा ने गाड़ी को आगे से टक्कर मारी और पीछे से बजरंग दल वालों ने टक्कर मारी। इसके बाद जुनैद और नासिर को वहीं उतारकर पुलिस की मौजूदगी में मारा गया। यह सब वहां मौजूद गांव वालों ने देखा है।”

मृतक जुनैद के चचेरे भाई इस्माईल के मुताबिक “बजरंग दल वाले जुनैद और नासिर को ले गए और मारने पीटने के बाद हरियाणा के फिरोजपुर-झिरका थान पहुंचे, जहां पुलिस ने मरी हुई हालत में लाए गए जुनैद और नासिर को हिरासत में लेने से मना कर दिया।”

“पुलिस के हिरासत में न लेने के बाद बजरंग दल के नेता मोनू मानेसर, रिंकू सैनी के अलावा 7-8 अन्य लोग दोनों भाईयों को 200 किलोमीटर दूर लोहारु इलाके में ले गए, जहां पीछे वाली सीट पर दोनों को बैठाकर जिंदा जला दिया गया।”

junaid and nasir murder case timeline
junaid and nasir murder case timeline

सोशल मीडिया पर चली खबर के बाद परिजनों को इनकी मौत के बारे में पता चला।

हंगामें के बीच शाम 5 बजे दोनों का अंतिम संस्कार किया गया। राजस्थान सरकार ने मृतकों के परिवार को 20-20 लाख देने की घोषणा की है।

इस मामले में राजस्थान पुलिस ने 5 लोगों पर केस दर्ज किया है। मुख्य आरोपी मोनू मानेसर फरार है, पुलिस ने रिंकू सैनी को गिर्फतार किया है, जिसने अपने साथियों के नाम बताए हैं लेकिन उसने मोनू मानेसर का नाम नहीं लिया। रिंकू ने यह बात भी कुबूल की है कि वो जुनैद और नासिर को हरियाणा पुलिस के पास ले गए थे, और पुलिस ने हिरासत में लेने से मना कर दिया था।

कौन है आरोपी मोनू मानेसर?

मोहित यादव उर्फ मोनू मानेसर बजरंग दल गौरक्षा का प्रमुख है। यह हरियाणा के मानेसर में रहता है। जुनैद-नासिर की हत्या के बाद से अंडरग्राउंड हो गया है। एक वीडियो कर जारी कर इसने उस पर लगाए जा रहे सभी आरोप गलत है, उसे इसे मामले में जबरन फंसाया जा रहा है।

who is monu manesar in hindi

मोनू मानेसर पर 20 दिनों में 2 हत्या व एक हत्या के प्रयास के आरोप लग चुके हैं।

इस गौरक्षा दल की दहशत फैली हुई है।

28 जनवरी 2023 को भिवाड़ी-तावडू रोड पर सेंट्रो कार सवार वारिस की मौत हुई थी। वारिस के परिवार वालों ने भी मोनू और उसके साथियों पर ही हत्या का आरोप लगाया था.

असदुद्दीन ओवैसी ने इस मामले में प्रधानमंत्री मोदी से अपील की है कि वो जुनैद और नासिर की मौत पर खेद प्रकट करें।

Read More

Follow Ground Report for Climate Change and Under-Reported issues in India. Connect with us on FacebookTwitterKoo AppInstagramWhatsapp and YouTube. Write us on GReport2018@gmail.com.