UP : अपने ख़िलाफ ख़बर लिखे जाने से नाराज़ भू-माफिया और विहिप की नेता ने पत्रकार की करवा दी हत्या !

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में कानपुर स्थित एक अखबार के रिपोर्टर की 19 जून को हत्या कर दी गई। आरोप है कि पत्रकार की हत्या के पीछे क्षेत्र में सक्रिय रेत माफिया और भू माफिया का हाथ है। वे कानपुर से प्रकाशित होने वाले अखबार कंपू मेल में काम करते थे।

Ground Report । Kanpur

गंगाघाट कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला पोनी रोड स्थित झंडा चौराहा निवासी पत्रकार शुभममणि त्रिपाठी बीती 19 जून की दोपहर उन्नाव से वापस लौट रहे थे। सहजनी में बाइक सवार हमलावरों ने उन पर ताबड़तोड़ छह गोलियां दागीं। तीन गोली उनके सीने और पेट पर लगीं। घटना के बाद हत्यारे मौके से फरार हो गए। 

वहीं, शुभममणि के साथ बाइक चला रहा उसका दोस्त जान बचाकर भागने में सफल रहा था। दिनदहाड़े सरेराह पत्रकार की हत्या से सनसनी फैल गई। पत्रकार के भाई ऋषभमणि त्रिपाठी ने उसी रात भू-माफिया और विहिप की मातृ शक्ति विभाग की जिला संयोजिका दिव्या अवस्थी, उसके पति कन्हैया अवस्थी, देवर राघवेन्द्र अवस्थी, मोनू खान और शाहनवाज सहित 10 लोगों पर हत्या व बलवा की धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था।

घटना के दूसरे ही दिन गिरफ्तार किए गए एक आरोपी से पुलिस पूछताछ कर रही थी। उसने कबूल किया कि पत्रकार शुभममणि द्वारा सरकारी जमीनों पर किए गए कब्जों की जानकारी मीडिया में देने के बाद प्रशासन क कार्रवाई से विहिप नेता दिव्या अवस्थी उससे बेहद खफा थीं। उसने अपने खास गुर्गे शातिर अपराधी मोनू खान को शुभम को ठिकाने लगाने को कहा, जिस पर उसने चार लाख में दो शूटर तय किए और उन्हें 20 हजार की पेशगी भी दी थी।

त्रिपाठी ने बीते 14 जून को अपने फेसबुक प्रोफाइल पर लिखा था कि उनकी एक रिपोर्ट के कारण मशहूर भू माफिया के अवैध निर्माण को गिरा दिया गया। उन्होंने कहा था कि इस कार्रवाई से माफिया गुस्सा हो गया और उसने उनके खिलाफ जिलाधिकारी के पास फर्जी आवेदन दिया है।पुलिस द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है और दो अन्य को गिरफ्तार करने का प्रयास किया जा रहा है।

गिरफ्तार किए गए एक आरोपी ने पुलिस को बताया कि एक स्थानीय रियल एस्टेट कारोबारी दिव्य अवस्थी ने त्रिपाठी की रिपोर्ट और फेसबुक पोस्ट के जवाब में उनकी हत्या की साजिश रची।

उन्नाव के एक अन्य पत्रकार विशाल मौर्या ने कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट (सीपीजे) को बताया कि त्रिपाठी ने पुलिस को अपनी जान को खतरे की बात बताई थी। त्रिपाठी ने 15 जून को अधिकारियों को पत्र लिखकर धमकी दिए जाने की जानकारी दी थी। त्रिपाठी ने उसमें 10 संदिग्धों के नामों का भी उल्लेख किया था।

एएसपी उत्तरी विनोद कुमार पांडेय ने प्रेस वार्ता में बताया कि नामजद शाहनवाज के साथ शूटर अफसर अहमद और अब्दुल बारी को गिरफ्तार कर लिया गया है। मुख्य आरोपित भू-माफिया दिव्या अवस्थी पर दस हजार और उसके देवर राघवेन्द्र अवस्थी के साथ मोनू खान पर पांच-पांच हजार का इनाम घोषित किया गया है।

उन्नाव जिले में एडीजी (अपर पुलिस महानिदेशक) एसएन साबत ने बुधवार शाम पुलिस लाइन पहुंचकर पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने गंगाघाट थाना क्षेत्र में पत्रकार शुभममणि की हत्या में अबतक की विवेचना की जानकारी ली। उन्होंने निर्देश दिए कि नामजद आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर की कारवाई की जाए।

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।