Jharkhand: Journalist Anand Dutta was slapping and forcibly seated in a jeep by ranchi police

पत्रकार आनंद दत्ता को झारखंड पुलिस ने बुरी तरह पीटा, हेमंत सोरेन ने लिया संज्ञान

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

झारखंड में ग्राउंड रिपोर्ट के दम पर पत्रकारिता जगत में अपनी अलग पहचान बना चुके युवा पत्रकार आनंद दत्ता को एक पुलिस वाले ने पॉकेटमार समझकर बुरी तरह पीटा। जबकी आनंद दत्ता राज्य में कोई अंजान नाम नहीं है। उन्हें एक आम आदमी से लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन तक जानते हैं। आदिवासी बहुल इलाकों, गांव देहात, आदिवासियों के मुद्दों पर उनकी कई रिपोर्ट्स पर खुद मुख्यमंत्री भी संज्ञान ले चुके हैं।

जैसे ही उन्हें पता चला कि पत्रकार मुस्लिम है भीड़ ने हमला कर दिया !

क्या है मामला?

दरअसल, आनंद दत्ता रांची स्थित मार्केट में अपनी पत्नी के साथ सामान लेने गए थे। तभी मोहन महतो नाम का एक पुलिस कॉन्सटेबल आनंद दत्ता के पास आया और उन्हें गाली देकर मारपीट करने लगा। उनका गला पकड़कर जीप में जबरन बिठाया गया। उन्हे पॉकेटमार तक कहा गया। इसके बाद थाने में ले जाकर भी उनसे मारपीट की गई।

READ:  बीजेपी में शामिल होने के बाद पहली बार सिंधिया-शिवराज की बैठक, मध्य प्रदेश उपचुनाव पर हुई ये बातचीत

मज़दूरों की उग्र भीड़ ने ABP न्यूज़ के रिपोर्टर पर लाठी-डंडों से कर दिया हमला

एक अखबार में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, आनंद दत्ता शाम में अपनी पत्नी के साथ सब्जी खरीदने मोरहाबादी गए थे। उन्होंने देखा कि एक पुलिस वाला दो महिलाओं से पूछताछ कर रहा है। सामने आनंद दत्ता को देख पुलिस वाले ने पूछा यहां क्या कर रहे हो। पत्रकार आनंद ने जवाब दिया कि वे यहां सब्जी लेने आया है। जब पुलिस वाले ने पूछा कि झोला कहां हैं। आनंद ने फिर जवाब दिया कि झोला पत्नी के पास है। वह आगे बढ़ गई है। इसके बाद एएसआई ने पत्रकार आनंद दत्ता को ताबड़तोड़ चार थप्पड़ जड़ दिए। फिर कॉलर और गला पकड़कर जबरन जीप में बैठाया और थाने ले गए। वहां उनके साथ मारपीट और अभद्र व्यवहार किया गया।

READ:  पर्यावरण दिवस विशेष: 'कोरोना काल' में भी लगाते रहे पेड़, पिछले 43 वर्षों से जारी है पीपल बाबा का सफर!

पत्रकार और IIMC के पूर्व छात्र के घर पर दबंगों का हमला, माता-पिता को आई गंभीर चोटें

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने लिया संज्ञान

मामला हाइलाइट होने के बाद खुद मुख्यमंत्री हेमंत सोरने ने डिप्टी कमिश्नर और झारखंड पुलिस को जांच के निर्देश दिए हैं। पत्रकार आनंद दत्ता ने मामले की शिकायत कर आरोपी पुलिस वाले को सस्पेंड करने की मांग की है। वहीं पत्रकार साथियों में इस बात को लेकर उक्त पुलिस वाले और पुलिस की इस असंवेदनशीलता के खिलाफ खासी नाराज़गी है।

READ:  टिड्डियों की एंट्री से हाई अलर्ट पर दिल्ली, केजरीवाल सरकार ने जारी की एडवाइजरी

गांव कनेक्शन में काम करने वाले पत्रकार और आईआईएमसी के पूर्व छात्र दया सागर ने पत्रकार आनंद दत्ता के साथ पुलिस के इस रवैये पर नाराज़गी जाहिर करते हुए ट्विट किया, हम पत्रकारों की मांग है कि #AnandDutta के साथ मारपीट और प्रताड़ित करने वाले SI मोहन महतो को तुरंत निलंबित किया जाए।

कौन हैं पत्रकार आनंद दत्ता?

पत्रकार आनंद दत्ता की वो रिपोर्ट जिसे गांव कनेक्शन ने प्रमुखता से छापा। इस रिपोर्ट के बाद झारखंड सरकार हरकत में आई और पहली बार यहां सरकारी सुविधाएं पहुंची। गांव कनेक्शन इस ट्विट कर कहा था, सारंडा जंगल में रहने वाले ग्रामीणों खासकर गर्भवती महिलाओं की दिक्कतों को गांव कनेक्शन ने प्रमुखता से उठाया था, जिसके बाद झारखंड सरकार और जिला प्रशासन को इन गांवों तक हर सुविधाएं उपलब्ध कराने का आदेश दिया था।

हाल ही मे आनंद दत्ता खेल पत्रकारिता के IIMCAA द्वारा आयोजित कनेक्शन 2020 में इफ्को इम्का अवार्ड से भी नवाजे जा चुके हैं।

पत्रकार आनंद दत्ता झारखंड IIMCAA अवार्ड से सम्मानित

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें [email protected] पर मेल कर सकते हैं।