सुप्रीम कोर्ट ने पर्युषण पर्व के दौरान इन जैन मंदिरों को दी 2 दिन के लिए पूजा की इजाज़त

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में मुम्बई के 3 जैन मंदिरों को पर्युषण पर्व के दौरान पूजा अर्चना करने की इजाज़त दी है। दादर, भायखला और चेम्बूर इलाके के मंदिर इस दौरान खुल सकेंगे।

आपको बता दें कि कोरोना महामारी की वजह से सभी धार्मिक स्थलों को बंद रखने का आदेश सरकार द्वारा दिया गया है। गणेश चतुर्थी के दौरान सार्वजनिक स्थलों पर पंडाल लगाने की इजाज़त नहीं होगी। मुहर्रम में जुलूस निकालने पर प्रतिबंध रहेगा। सुप्रीम कोर्ट ने यह साफ कहा है कि इस आदेश का मतलब यह नहीं है कि बाकी धार्मिक स्थल भी इस आधार पर कार्यक्रम करने की इजाज़त मांगने लगे। महामारी के दौरान धार्मिक स्थलों में पूजा की इजाज़त को लेकर बॉम्बे हाई कोर्ट में पहले से ही सुनवाई चल रही है। इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने लॉकडाउन में धार्मिक आयोजन पर कोई फैसला नहीं दिया।

ALSO READ:  US election: Trump accused of fraud, says will go to Supreme Court

पर्युषण पर्व जैन धर्म का सबसे महत्वपूर्ण पर्व होता है। इस दौरान मंदिरों में 10 दिन तक धार्मिक आयोजन किये जाते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि केवल 2 दिन के लिए पूजा की जा सकती है और इस दौरान कोरोना को लेकर बनाए गए स्टैण्डर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर का ध्यान रखना होगा। मास्क पहनना अनिवार्य होगा। यह याचिका मुम्बई के श्वेताम्बर जैन समाज द्वारा लगाई गई थी।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।