जैन युवती से शादी के लिए मुस्लिम शख्स बना हिन्दू, विवाद के बाद सुप्रीम कोर्ट पहुंचा मामला

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रायपुर/नई दिल्ली, 20 अगस्त। छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले से ‘हादिया केस’ जैसा एक मामला सामने आया है। यहां रहने वाली जैन समाज की 23 वर्षीय लड़की से शादी करने के लिए एक 33 वर्षीय शख्स ने पहले हिन्दू धर्म अपनाया फिर आर्य समाज मंदिर में शादी कर ली। लड़की का नाम अंजली जैन जबकी लड़के का नाम धर्म परिवर्तन के बाद आर्यन आर्य है, जबकि उसका असली नाम मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीकी है।

हांलाकि, लड़के का आरोप है कि उसकी पत्नी को उसके माता पिता ने कैद कर लिया है और उसे आजाद करवाने के लिए अब लड़के ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। लड़के की याचिका पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़़ की पीठ ने छत्तीसगढ़ सरकार को तलब करते हुए उससे याचिका की प्रति राज्य सरकार के वकील को देने का निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें: आजा़दी के बाद देश में महिलाओं की स्थिति

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को निर्देश देते हुए कहा है कि, छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले के पुलिस अधीक्षक को प्रतिवादी नंबर-4, अशोक कुमार जैन की बेटी अंजलि जैन को 27 अगस्त, 2018 को अदालत में पेश करने का निर्देश दिया जाता है।

इससे पहले बिलासपुर हाई कोर्ट में मामले की सुनवाई के दौरान अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा था कि, अदालत में उपस्थित होकर अंजलि जैन ने आर्यन आर्य (मोहम्मद इब्राहिम सिद्दीकी) के आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा था कि उसके माता पिता ने उसे अवैध तरीके से रोककर नहीं रखा है।

हांलाकि, सुनवाई के दौरान अंजलि जैन ने कहा था कि उसके परिवार को मुस्लिम युवक इब्राहिम से शादी को लेकर सख्त ऐतराज है। इस स्थिति को देखते हुए कोर्ट ने कहा था कि इब्राहिम उर्फ़ आर्यन आर्य के साथ रहने के बारे में फिलहाल किसी नतीजे पर पहुंचना जल्दबाजी होगी। अंजलि को कुछ वक्त दिया जाना चाहिए। इसलिए अदालत अंजलि को इब्राहिम के साथ रहने के लिए अभी कोई आदेश नहीं दे सकती।

यह भी पढ़ें: IHM प्रिंसिपल पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप, सुने जांच कर रहे डायरेक्टर का गैर जिम्मेदाराना जवाब

हाई कोर्ट के इस फैसले को इब्राहिम ने अब सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। जहां सर्वोच्च न्यायालय ने छत्तीसगढ़ सरकार को अशोक कुमार जैन की बेटी अंजलि जैन को 27 अगस्त, 2018 को अदालत में हाजिर करने के निर्देश दिए हैं।

आर्यन आर्य (मोहम्मद इब्राहिम) के वकील साजिद खान ने बताया कि, धमतरी पुलिस अधीक्षक और जिला मजिस्ट्रेट को नोटिस जारी कर दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि, लड़का और लड़की दोनों के बालिग होने की स्थिति में और इब्राहिम के हिन्दू धर्म स्वीकार करने और आर्य समाज मंदिर में हुई शादी के प्रमाण पत्र अदालत में पेश करने के साथ ही शादी के दौरान ली गईं तस्वीरें भी कोर्ट में पेश की गई थी जहां हाईकोर्ट ने दोनों की शादी की वैधता पर कोई आपत्ति नहीं जताई थी। अब मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया है जहां 27 अगस्त को सुनवाई होना है।

यह भी पढ़ें: राजीव की वजह से जिंदा हैं अटल, इन्दिरा को बताया था ‘दुर्गा’, कुछ ऐसे थे नेहरू से रिश्तें

आर्यन आर्य ने अंजली जैने के परिजनों पर लगाए हैं ये गंभीर आरोप

1) मोहम्मद इब्राहिम उर्फ आर्यन ने अपनी पत्नी अंजली जैने के परिजनों पर आरोप लगाते हुए कहा है कि, शादी के कुछ दिनों तक सब कुछ ठीक था, लेकिन लड़की के घर वालों को इसकी भनक लगते ही उन्होंने बहाने से अंजलि को अपने घर बुलाया। इसके बाद उन्होंने अंजली को अपने किसी अज्ञात जगह पर कैद कर लिया।

2) आर्यन का आरोप है कि परिजन अंजलि को पागल करार करवाना चाहते हैं, क्योंकि बीती 6 अगस्त को अंजलि के पिता ने उसे समोसे में ऐसी कोई दवा दी जिससे उसकी हालत बिगड़ गई। इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया फिर वहां से रायपुर में मानसिक रोगियों के अस्पताल धन्वंतरी में शिफ्ट किया गया।

3) इसके बाद आर्यन ने लड़की के परिजनों पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि अंजलि के परिवार का दवाइयों का कारोबार है। जिसके चलते उसकी पत्नी अंजलि को कोई ऐसी दवाई दी गई है, जिससे वो मानसिक रोगियों की तरह नजर आए।

यह भी पढ़ें:  KERALA FLOOD: क्योंकि हर ज़िन्दगी है ज़रूरी

क्या था ‘केरल लव जिहाद’ हदिया मामला

1) केरल के वाइकोम की रहने वाली अखिला तमिलनाडू के सलेम में होम्योपैथी की पढ़ाई कर रही थी। अखिला के पिता के एम अशोकन का आरोप था कि हॉस्टल में उसके साथ रहने वाली दो मुस्लिम लड़कियों ने उसे धर्म परिवर्तन के लिए उकसाया था। इसके बाद अखिला ने पहले इस्लाम कबूल किया फिर अपना नाम हदिया रख लिया।

2) जनवरी 2016 में हदिया उर्फ अखिला अपने परिवार से अलग हो गई। हदिया ने शफीन नाम के एक मुस्लिम युवक से शादी कर ली। इसके बाद उसके पिता ने दिसंबर 2016 में केरल हाई कोर्ट में याचिका दाखिल करते हुए कहा था कि उनकी बेटी गलत हाथों में पड़ गई है। उसे आईएसआईएस का सदस्य बना कर सीरिया भेजा जा सकता है। उन्होंने बेटी को अपने पास वापस भेजने की मांग की थी।

3) केरल हाई कोर्ट ने हदिया और शफीन की शादी को अवैध ठहराते हुए दोनों को अलग कर दिया। बाद में ये मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा। जहां लंबी सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट के फैसले को रद्द करते हुए हादिया और शफीन की शादी को बहाल कर दिया।

यह भी पढ़ें: क्या केरल में आई बाढ़ का कारण जलवायु परिवर्तन है?

समाज और राजनीति की अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर फॉलो करें-www.facebook.com/groundreport.in/

Comments are closed.