इरफान पठान: ‘कुछ भी होने से पहले मैं एक भारतीय हूं’

ग्राउंड रिपोर्ट । न्यूज़ डेस्क

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में क्रिकेटर इरफान पठान ने जामिया पर किए अपने ट्वीट पर हुए विवाद पर खुल कर जवाब दिया। इरफान पठान ने जामिया यूनिवर्सिटी में हुई हिंसा पर ट्वीट कर कहा था कि-

राजनीतिक आरोप प्रत्यारोप हमेशा चलते रहेंगे। इस समय मैं और सारा देश जामिया के छात्रों के लिए चिंतित है।

इरफान पठान, भारतीय क्रिकेटर

उनके इस ट्वीट पर लोगों ने उन्हें ट्रोल करना शुरु कर दिया। हमने देखा है कि भारतीय सेलेब्रिटी इसी कारण जनता के मुद्दों पर अपनी राय देने से बचते हैं और जो खुल कर बोलते हैं उन्हें विवाद का सामना करना पड़ता है।

मुस्लिम होकर भारत की तरफ से क्यों खेलते हैं?

इरफान पठान नें इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में एक किस्सा सुनाया जब वे एक मैच के दौरान पाकिस्तान के लाहौर में एक कॉलेज में गए, तब एक छात्रा ने उनसे बड़े गुस्से में एक सवाल किया था कि वे एक मुस्लिम होकर भारत की तरफ से क्यों खेलते हैं? तब इरफान ने जवाब देते हुए कहा था कि वे भारत की तरफ से खेलकर कोई एहसान नहीं करते, भारत उनका अपना देश है, उन्हें गर्व है कि वे अपने मुल्क की नुमाइंदगी करते हैं। वो एक भारतीय हैं क्योंकि उनके पूर्वज भारतीय थे। तब क्लास तालियों से गूंज उठी थी।

इरफान यह किस्सा सुनाते हुए कहते हैं कि अगर वे पाकिस्तान में खड़े होकर खुलेआम सीना चौड़ा कर अगर वो यह कह सकते हैं तो भारत तो उनका अपना देश है। उन्हें कुछ भी कहने के लिए किसी इजाज़त की ज़रुरत नहीं है।

यह भी पढ़ें: CAA पर बोले फ़िल्म अभिनेता जीशान- लोगों को धर्म के आधार पर बांटने के लिए लाया गया है ये बिल

ये बच्चे ही हमारे देश का भविष्य हैं

इरफान ने कहा कि जामिया में शांति प्रिय ढंग से बच्चे विरोध प्रदर्शन कर रहे थे, जो उनका लोकतांत्रिक अधिकार है। उन्होंने इस मसले पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास किया ताकि वहां कोई जान की हानि न हो। क्योंकि यह बच्चे हमारे देश का भविष्य हैं। इरफान सवाल करते हैं कि क्या जामिया के बच्चे हमारे नहीं है, आईआईएम के बच्चे हमारे नहीं है, उत्तर पूर्वी राज्यों के बच्चे हमारे नहीं है? कश्मीर के बच्चे हमारे नहीं है ? ये बच्चे ही हमारे देश का भविष्य हैं। इनकी सुरक्षा हमारी ज़िम्मेदारी है। प्रोटेस्ट के दौरान हई हिंसा का विरोध करते हुए इरफान ने कहा कि किसी को हिंसा का सहारा नहीं लेना चाहिए।

तब वे देश के लाड़ले थे, अब क्या हो गया?

इरफान कहते हैं कि वे हर ज़रुरी मुद्दे पर ट्वीट करते हैं हाल ही में जब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इरफान खान ने खून की नदियां बह जाएंगी जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया था तब भी उन्होनें ट्वीट कर इरफान को करारा जवाब दिया था। तब वे भारत के लाड़ले थे, लोगों ने उनकी खूब सराहना कि थी। लेकिन अब जब वे खुद के देश के हालातों पर ध्यान खींचना चाहते हैं तो उनकी आलोचना हो रही है।

यह भी पढ़ें :’भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को कैसे जवाब देंगे?’ सुशांत सिंह

जामिया मिल्लिया यूनिवर्सिटी में हुई हिंसा पर कई बड़ी हस्तियों ने चिंता जाहिर कि अमिताभ बच्चन, अनुपम खेर , परिणीती चोपड़ा द्वारा किए ट्वीट पर काफी विवाद हुआ।