महाराष्ट्र कैडर के सीनियर आईपीएस अधिकारी ने नागरिकता बिल के विरोध में दिया इस्तीफा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

लोकसभा के बाद राज्यसभा में नागरिकता संधोधन विधेयक  पारित हुआ वैसे ही महाराष्ट्र कैडर के आईपीएस अधिकारी अब्दुर रहमान ने अपना इस्तीफा दे दिया। जानकरी के मुताबिक वह IGP मुंबई में पोस्टेड थे। आईपीएस अब्दुर रहमान ने अपने पद से यह कहते हुए इस्तीफा दे दिया कि यह बिल नागरिकों के मौलिक अधिकारों का हनन है और और संविधान के खिलाफ है।

अब्दुर रहमान ने ट्वीट करते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 संविधान की मूल विशेषता के विरुद्ध है। मैं इस विधेयक की निंदा करता हूं। मैंने कल से कार्यालय में उपस्थित नहीं होने का फैसला किया है। मैं आखिरकार सेवा छोड़ रहा हूं। वहीँ रहमान के इस्तीफे से प्रशासन में खलबली मच गई है। बिल का देशभर में व्यापक विरोध हो रहा है। रहमान नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर इस्तीफा देने वाले पहले अधिकारी हैं।

नागरिकता संशोधन विधेयक के लोकसभा में पारित होने के बाद अब यह बिल राज्यसभा में भी पारित हो गया। इस विधेयक के पक्ष में 125 वोट पड़े और विरोध में 105 वोट पड़े। वोटिंग के समय कुल 230 सांसद मौजूद थे। शिवसेना नें सदन से वॉकआउट कर दिया। शिवसेना के राज्यसभा में 3 सांसद हैं। विपक्ष इस बिल का कड़ा विरोध कर रहा था, लेकिन सरकार के संख्या बल के आगे विपक्ष कमज़ोर पड़ गया।

विपक्ष द्वारा लाए गये सभी संशोधन प्रस्ताव भी राज्यसभा में खारिज हो गए। इस विधेयक को सिलेक्ट कमेटी को भेजे जाने की मांग भी खारिज हो गई। राज्यसभा में पारित होने के बाद यह बिल राष्ट्रपति को हस्ताक्षर के लिए भेजा जाएगा उसके बाद राष्ट्रीय गजट में प्रकाशन के बाद यह विधेयक कानून बन जाएगा और पूरे देश में लागू हो जाएगा। इस विधेयक को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी जा सकती है।