Home » International Yoga Day: अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर जानिए योग का अर्थ

International Yoga Day: अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर जानिए योग का अर्थ

International Yoga Day
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

International Yoga Day: हर साल विश्व भर में 21 जून को योगा दिवस मनाया जाता है। इस साल हम छठा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस(6th International Yoga Day) मना रहे हैं। इसकी शुरूआत 2015 को भारत में हुई थी। आज योग पूरे विश्व में प्रचलित एक कला है। भारत यानी हमारे देश में हर साल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस(International Yoga Day) की एक थीम तैयार की जाती है। लेकिन कोविड-19 (Covid-19) के कारण इस बार सावधानियां भी बरती गई हैं और थीम ऐसा रखा गया है जिसमें आप ऑनलाइन शामिल हो सकते हैं।

क्या है योग का अर्थ

योग एक पुराने समय से चला आ रहा शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक अभ्यास है, जिसकी शुरुआत भारत में हुई थी। ‘योग’ शब्द संस्कृत भाषा से निकला है। योग हमारे शरीर का मन से मिलाप कराता है। योग खासतौर पर इंद्रियों को नियंत्रित करने का काम करता है। योग आपको मन की शांति, स्वास्थ और ताज़गी लाता है। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस हर साल 21 जून (21 June) को दिन मनाया जाता है। जो दुनिया भर के कई हिस्सों में सबसे बड़ा दिन भी माना जाता है।

कैसे हुई अन्तराष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत

दरअसल 27 सितंबर 2014 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने पहली बार संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में अपने भाषण के दौरान ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ का विचार रखा। वे चाहते थे कि भारत की संस्कृति का सभी लोग लाभ ले सकें। तब इसके बाद संयुक्त राष्ट्र (UN) में भारत के राजदूत अशोक कुमार मुखर्जी ने ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ पर एक Draft पेश किया गया। उस draft को 177 देशों से समर्थन भी मिला, जो किसी भी यूएनजीए (UNGA) प्रस्ताव को लागू करवाने के लिए बहुत था। इस प्रोसेस के बाद, संयुक्त राष्ट्र ने 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित कर दिया।

विभिन्न धर्मों में योग – विचार

क्यों जरूरी है हमारे स्वास्थ्य के लिए योग

योग एक सीखी जाने वाली कला है। योग एक अभ्यास है, तपस्या है जिसे अगर सही तरीके से किया जाए तो स्वास्थ्य कभी खराब नहीं होता लेकिन गलत तरीकों से किया जाए तो स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। योगासन करने से व्यक्ति शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करता है योग से न केवल मांसपेशियों सुदृढ़ होती हैं, बल्कि शरीर में प्राणाशक्ति बढ़ती है और आंतरिक अंगों में दृढ़ता आती है। साथ ही नाड़ी तंत्र को संतुलित बनाती है। योग मानसिक तनाव से मुक्ति और मानसिक एकाग्रता प्रदान करता है। योग का दिमाग, भावनाओं, मनोदशा एवं चित्तवृत्ति पर सीधा प्रभाव पड़ता है। योग तनाव को कम करता है और त्वचा में आभा लाता है। योगा से आप जल्द ही यौवन को ताजगी और बेहतर मूड का अहसास करेंगे।

READ:  क्या 28 साल बाद फिर से फिल्मों में दिखाई देने वाली हैं दिव्या भारती?

योग और भोजन में हो 3 घंटे का अंतराल

योग की अगर बात करें तो योग हमेशा सुबह की ताजी हवा में करना चाहिए। उस वक्त वातावरण में प्रदूषण नहीं होता है। आप शाम को भी योग कर सकते हैं। योग हमेशा वक्त पेट खाली होना चाहिए।  खाना खाने के 3 घंटे बाद योग का अभ्यास कर सकते हैं।

योगा के ये 8 अनुशासन हैं जरूरी

योगा में यम, नियम, आसान, प्राणायाम, प्रतिहार, ध्यान, धारणा, समाधि यह 8 अनुशासन बताए गए हैं। यम से तात्पर्य है कि आप खुद से प्रोमिस करेंगे कि आप गुस्सा नहीं करेंगे, हर रोज अपने काम की प्रैक्टिस करेंगे। अगला है नियम जिसका तात्पर्य है कि आप योगा करने ले लिए बने सारे नियमों का पालन करेंगे, समय से सोएंगे, समय से उठेंगे।

तीसरा है आसान, आसान और व्यायाम दोनों अलग अलग होते हैं। आसान श्वास पर नियंत्रण करने और पोजीशन पर आधारित है। फिर आता है प्राणायाम इससे आपको मन की शांति मिलती है। प्रतिहार का तात्पर्य है संयम, प्रतिहार से आपकी इंद्रियों में संयम आता है वो जाग्रित होती है। ध्यान का अर्थ है किसी एक चीज़ पर एकाग्रचित्त होना है। योग के लिए ध्यान बहुत जरूरी है।

फिर आता है धारणा, धारणा से अर्थ है कि आपको जो काम दिया गया है वो आप पूरे फोकस से करें जिसमें धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष, धर्म का तात्पर्य है अच्छा खाना, अच्छा स्वास्थ्य। अर्थ से तात्पर्य है अपने जिम्मेदारी अच्छे से निभाए, काम से तात्पर्य है अपनी मैरिड लाइफ खुशहाल बनाए, मोक्ष से तात्पर्य है कि बुरी बातों से छुटकारा। आखरी अनुशासन है समाधि इसका तात्पर्य है कि आप एक अच्छे व्यक्तित्व के इंसान बने।

READ:  कौन हैं सहदेव दिर्डो? वायरल हुई बचपन का प्यार वीडियो के पीछे की पूरी कहानी

मानसिक तनाव(Mental Stress) से बचाने वाले योगासन(Yoga Asana)

2021 की योग दिवस की थीम

कोविड-19 से बचने के लिए सकारात्मक रहना और इम्यूनिटी बढ़ाना, दोनों ही बेहद जरूरी हैं। इसलिए संयुक्त राष्ट्र (UN) की ऑफिशियल वेबसाइट ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2021 की थीम ‘मानव तंदुरुस्ती और कल्याण के लिए योग’ रखी है।

भारत ने योग में बनाये 2 वर्ल्ड रिकॉर्ड

भारत में पहला अंतरराष्ट्रीय योग दिवस राजपथ (Rajpath) पर पीएम मोदी (PM Modi) के साथ 84 देशों के गणमान्य व्यक्तियों के साथ मनाया गया था। जिन्होंने 21 योगासन में भाग लिया और उन्हें बढ़ावा दिया था। इस आयोजन ने भारत के लिए दो विश्व रिकॉर्ड बनाये। पहला – दुनिया की सबसे बड़ी योग कक्षा होने के लिए जिसमें 35,985 लोग शामिल थे। दूसरा – 84 राष्ट्रीयताओं के लोगों की भागीदारी होने के लिए।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।