Sun. Sep 22nd, 2019

जाधवपुर विश्वविद्यालय में ऊर्जा और सतत विकास पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन फरवरी 2020 में

हर्षित कुमार कुशवाहा। कोलकाता

NIRF की रैंकिंग के अनुसार शीर्ष सौ विश्वविद्यालयों में छँठवा स्थान बरकरार रखने वाले जाधवपुर विश्वविद्यालय में फरवरी 2020 में ऊर्जा और सतत विकास पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन होने जा रहा है । यह सम्मेलन जाधवपुर के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग और द इंस्टीट्यूसन आफ इंजीनियरिंग इंडिया द्वारा आयोजित किया जा रहा है, जिसमें राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान भी विशेष भूमिका निभा रहा है । जाधवपुर विश्वविद्यालय अपने तकनीकी शिक्षण और प्रशिक्षण के लिए जाना जाता रहा है। यही वजह रही है कि विद्यार्थी जाधवपुर विश्वविद्यालय में प्रवेश पाने की होड़ में लगे रहते हैं। विश्वविद्यालय काफी पुराना होने के बाद भी नवीनता में कहीं भी कोई कसर नहीं छोड़ रहा। इस विश्वविद्यालय का मिशन समुदाय को शिक्षण, अनुसंधान, रचनात्मक अभिव्यक्ति और सेवा में उत्कृष्टता के उच्चतम मानक तक पहुँचाना है, इसीलिए ऐसे ऐतिहासिक कार्यक्रम और सम्मेलन जाधवपुर विश्वविद्यालय में आयोजित होते रहते हैं ।

उच्च गुणवत्ता वाले अनुसंधान का उत्पादन है लक्ष्य

वर्तमान वैज्ञानिक, शोधकर्ता और अन्य तकनीकी जानकार इस सम्मेलन का हिस्सा बनेंगे। यह द्वि-दिवसीय सम्मेलन 14 – 15 फरवरी को विश्वविद्यालय के कैम्पस में ही आयोजित होगा। कार्यक्रम की घोषणा विश्वविद्यालय की आधिकारिक वेबसाइट पर की गयी । विश्वविद्यालय द्वारा जारी विवरणिका के अनुसार – सम्मेलन का उद्देश्य शोधकर्ताओं को विचारों और सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए प्रोत्साहित करने वाले वातावरण को बढ़ाने के लिए ऊर्जा और सतत विकास के क्षेत्र में प्रगति प्रस्तुत करना है। यह सम्मेलन नए सहयोगों को विकसित करने और उल्लिखित क्षेत्रों के मूल सिद्धांतों, अनुप्रयोगों और उत्पादों पर विशेषज्ञों से मिलने के लिए एक आदर्श वातावरण भी प्रदान करेगा। इस सम्मेलन में उद्योग और शिक्षा दोनों के प्रतिष्ठित विशेषज्ञों द्वारा आमंत्रित मुख्य वार्ता और दो दिनों में फैले समानांतर तकनीकी सत्र शामिल हैं। यह युवा शोधकर्ताओं के लिए शैक्षणिक विशेषज्ञों के साथ मिलने और चर्चा करने के लिए एक मंच के रूप में काम करेगा और उच्च गुणवत्ता वाले अनुसंधान का उत्पादन करने के लिए प्रेरित करेगा।

कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य

इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य ऊर्जा संरक्षण से सम्बन्धित शोध, तथ्यों, और जानकारियों को सामने लाना, रिसाइकिलिंग, ताप – प्रभाव, परिवहन प्रौद्योगिकी, जल संरक्षण और अन्य सामयिक तकनीकी मुद्दों पर शोध प्रस्तुतीकरण है ।इसके अलावा मॉडलिंग, सिमुलेशन, गर्मी हस्तांतरण थर्मल भंडारण और भूतापीय प्रौद्योगिकी दूसरे अहम मुद्दे होंगे ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: