Indian Railways- मोदी सरकार IRCTC में OFS के ज़रिए बेचेगी हिस्सा

Indian Railways- मोदी सरकार IRCTC में OFS के ज़रिए बेचेगी हिस्सा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

केंद्र सरकार अब IRCTC में OFS (Offer For Sale) के ज़रिए हिस्सा बेचने जा रही है। केंद्र सरकार ने इसको बेचने की प्रक्रिया पर काम शुरू कर दिया है। सरकार पहले से ही भारतीय रेलवे (Indian Railways) के कुछ अहम महकमों को बेचने पर काम रही है ।

भारतीय रेलवे (Indian Railways) के अलग-अलग डिपार्टमेंट को प्राइवेट हाथों में सौपने का काम तेज़ी से जारी है। केंद्र सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए भारतीय रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) में सरकार अपनी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी कर ली है। CNBC आवाज़ की ख़बर के मुताबिक,  IRCTC में OFS के जरिए हिस्सा बेचा जाएगा।

क्या होता है OFS

ओएफएस को ऑफर फॉर सेल कहते है। शेयर बाजार में लिस्‍टेड कंपनियों के प्रमोटर्स अपनी हिस्सेदारी को कम करने के लिए इसका इस्तेमाल करते है। सेबी के नियमों के मुताबिक जो भी कंपनी ओएफएस जारी करना चाहती है, उसे इश्यू के दो दिन पहले इसकी सूचना सेबी के साथ-साथ एनएसई और बीएसई को देनी होती है।

भारतीय रेल: कब दोबारा पटरी पर लौटेंगी नियमित ट्रेनें?

इसके बाद इन्वेस्टर्स एक्सचेंज को जानकारी देकर इस प्रक्रिया में शामिल हो सकते हैं। इन्वेस्टर्स किस कीमत पर शेयर खरीदना चाहते हैं उसकी जानकारी उपलब्ध करानी होती है।

बता दें कि भारतीय रेलवे ने इससे पहले 109 रूटों पर ट्रेन चलाने के लिए निजी कंपनियों से रिक्वेस्ट फ़ॉर क्वालीफ़िकेशन यानी आरएफ़क्यू आमंत्रित किया है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन का कहना है कि अप्रैल 2023 में निजी रेल सेवाएं शुरू हो जाएंगी।

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups