भारत चीन युद्ध की तैयारी

जंग की तैयारी? चीन ने सीमा पर 50 हज़ार सैनिक और 40 से ज्यादा टैंक किए तैनात

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ता ही जा रहा है। गलवान घाटी में हुई झड़प में भारत के जवानों के शहीद होने के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव घटाने को लेकर कई बार बातचीत का दौर चला लेकिन चीन अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहा है। ताज़ा मिली जानकारी के मुताबिक दोनों देशों ने सीमा पर सैनिकों की तैनाती बढ़ा दी है। भारत हर मोर्चे पर चीन को करारा जवाब देने का तैयार है। हालातों को देखकर लगता है कि दोनों देश जंग की तैयारी में जुट गए हैं। लेकिन क्या सच में भारत और चीन युद्ध की ओर बढ़ रहे हैं? यह सवाल बहुत बड़ा है। अगर भारत और चीन के बीच इस समय युद्ध हुआ तो यह पूरे एशिया के लिए विनाशकारी सिद्ध हो सकता है।

ALSO READ:  Chinese army deployed in large numbers at Depsang plains

भारत-चीन सीमा पर जंग की तैयारी?

  • बॉर्डर पर तनाव को देखते हुए चीन दिन पर दिन जवानों की संख्या में बढ़ोतरी करते जा रहा है। सूत्रों की माने तो बॉर्डर पर चीन जवानों की संख्या 50 हजार के करीब पहुंच गई है।
  • रिपोर्ट्स के अनुसार खासकर देपसांग क्षेत्र में चीन जवानों के साथ टैंक की भी तैनाती कर दिया है, जबकि यहां पर पहले से ही बड़ी संख्या में चीनी जवान मौजूद हैं।
  • डेपसांग सेक्टर में लगभग 25 अतिरिक्त टैंक और इतनी ही संख्या में इन्फैंट्री कॉम्बैट व्हीकल और 300-400 सैनिक हैं। जबकि इस क्षेत्र में पहले से ही 3000 चीनी पीएलए सैनिक और लगभग 40-50 टैंक मौजूद है। 
  • सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल, आटोमेटिक बंदूकें, रॉकेट लॉन्चर सिस्टम और वायु रक्षा प्रणाली सहित तोपों की भी तैनाती की गई है। इस इलाके में मिसाइल में मध्यम श्रेणी की HQ-16 और थोड़ी लंबी दूरी की HQ-9 मिसाइल शामिल हैं।
  • पांगोंग झील के उत्तरीय इलाके में कोई बदलाव देखने को नहीं मिला है। लेकिन यहां भी पर्याप्त संख्या लगभग 5000 चीनी सैनिकों की पहले से तैनाती है। कुछ तोपों की भी तैनाती की गई है।
  • चीनी मिलिट्री रिपोर्ट के मुताबिक अब तक इस इलाके में कई भारी गोला बारूद और सैनिक एयरड्रॉप किए जा चुके हैं।
  • भारत द्वारा हाल ही में अटल सुरंग का उद्घाटन किया गया। इस सुरंग के माध्यम से सैनिकों की आवाजाही मदद मिलेगी। इसे लेकर भी चीन बौखलाया हुआ है।
  • पूर्वी लद्दाख में लंबे समय तक जमे रहने की तैयारी में भारतीय सेना ने भी 35 हजार सैनिकों के तैनाती कर दी है। इन सैनिकों को ऊंचाई और सर्दियों में रहने का पहले से ही तजुर्बा है।
ALSO READ:  Ladakh standoff: All about Aksai Chin and the Sino-India war of 1962

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।