इंडिया टुडे के न्यूज़ डायरेक्टर राहुल कंवल BJP IT CELL की तरह फैला रहे ‘मनगढ़ंत ख़बरें’….

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश के जाने माने वरिष्ठ पत्रकार और इंडिया टुडे (India today) के न्यूज़ डायरेक्टर राहुल कंवल फैला रहे हैं फेक न्यूज़ । राहुल कंवल ने एक दावा किया कि अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प (Donald Trump) ने संकेत दिया है कि अमेरिका में तैयार की जा रही COVID-19 की वैक्सीन सबसे पहले भारत को मिल सकती है । कंवल ने अपने ट्विटर हैंडल पर ट्विट करते हुए लिखा कि प्रधानमंत्री मोदी ने जब भारत से Hydroxychloroquine की रिक़्वेस्ट करी थी, जिसे पीएम मोदी ने स्वीकार कर लिया था ।

प्रसिद्ध फैक्ट चेकर वेबसाईट Alt News ने राहुल कवंल के इस दावे को झूठा और बेबुनियाद बताया है । कंवल ने इस दावे के लिए फ़ॉक्स न्यूज़ के एक इंटरव्यू को सोर्स के रूप में इस्तेमाल किया । Alt News ने राहुल के इस दावे को ग़लत साबित किया है ।

READ:  IFFCO ने लिया अहम फैसला, किसानों को दी बड़ी राहत

ये मामला तब उभर कर सामने आया जब अमेरिकी राष्ट्रपति ने भारत को धमकी देते हुए कहा था कि अगर भारत अमेरिका को Hydroxychloroquine नहीं भेजता तो ‘Retaliation के लिए तैयार रहे । राहुत कंवल का ये दावा राष्ट्रपति ट्रम्प द्वारा इस्तेमाल किये गए शब्द ‘Retaliation’ के बाद आया । हालांकि, भारत ने 6 अप्रैल को अपना निर्णय बदला और ‘महामारी के समय मानवीयता के तहत’ अपने पड़ोसियों को Hydroxychloroquine और पैरासिटामॉल जैसी दवाइयां भेजने के लिए तैयार हो गया ।

READ:  कुपोषण मिटाने के लिए महिलाओं ने पथरीली ज़मीन को बनाया उपजाऊ

फैक्ट चेकर वेबसाइट Alt News ने फ़ॉक्स न्यूज़ पर ट्रम्प और हैनिटी के फ़ोन इंटरव्यू की जांच की और जिसमें पााया की भारत को पहले वैक्सीन देने को लेकर ट्रंप ने कोई बात नहीं की है और न ही कहीं पर इस बात का कोई ज़िक्र किया गया है ।सरकार द्वारा जैसे ही Hydroxychloroquine के निर्यात से बैन हटाकर अमेरिका को दवा भेजने का फैसला लिया गया तो मोदी समर्थकों की तरफ़ से इस ख़बर को लेकर कई झूठे दावे भी किए गए।

READ:  Coronavirus के डर से Holi खेले या नहीं?

ट्विटर पर झूठी जानकारी फैलाने के लिए फेमस ऋषि बागरी ने ट्वीट किया कि दवा के बदले अमेरिका ने भारतीय फ़ार्मा कंपनियों को पूरा एक्सेस दे दिया है और US FDA ने हर तरह के बैन हटा लिए हैं। Alt News के मुताबिक ऋषि बागरी का दावा झूठा है और वो फेक न्यूज़ फैला रहे हैं। यह ट्वीट 12 हजार से ज़्यादा बार शेयर किया गया और 35 हजार से ज़्यादा बार लाइक किया गया है। Alt News के मुताबिक़ ऋषि बागरी के इस झूठे दावे पर इस बार भी कोई सबूत या मीडिया रिपोर्ट उपलब्ध नहीं है । वो लगातार कई बार फेक न्यूज़ फैलाते रहे हैं ।

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।