Home » बाल विवाह रोकथाम के लिए यूनिसेफ़ और कम्युनिटी रेडियो एसोसिएशन का अभिनव प्रयास

बाल विवाह रोकथाम के लिए यूनिसेफ़ और कम्युनिटी रेडियो एसोसिएशन का अभिनव प्रयास

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

न्यूज़ डेस्क।। ग्राउंड रिपोर्ट।
बाल विवाह जैसी सामाजिक बुराई के प्रति सुमदाय को जागरूक करने के उदेश्य से यूनिसेफ़ और कम्युनिटी रेडियो एसोसिएशन ने बड़े पैमाने पर जन जागरण कैंपेन शुरू किया है जिसके तहत देशभर के 60 सामुदायिक रेडियो स्टेशनों पर “बचपन एक्सप्रेस” रेडियो श्रंखला का प्रसारण शुरू किया गया है. सहगल फाउंडेशन द्वारा संचालित कम्यूनिटी रेडियो अल्फाज़-ए-मेवात सहित देशभर के विभिन्न प्रदेशों के प्रभावित जिलों के लगभग सभी कम्युनिटी रेडियो स्टेशनों पर चल से इसे प्रसारित किया जायेगा.

सीरीज़ में बाल विवाह रोकथाम एवं बच्चों की पढ़ाई निरंतर जारी रखने पर बल दिया जा रहा है. इस रेडियो सीरीज़ का प्रसारण अल्फाज –ए- मेवात पर 20 फरवरी, 2019 से हर बुधवार सुबह 11:35 पर और पुन: प्रसारण शाम 7:35 पर होगा और हर बुधवार को इसी क्रम में प्रसारण होगा.

हाल ही में संयुक्त राष्ट्र बाल निधि (UNICEF) ने एक रिपोर्ट, ‘फैक्टशीट चाइल्ड मैरिजेज़ 2019’ जारी की है जिसके अंतर्गत कहा गया है कि भारत के कई क्षेत्रों में अब भी बाल विवाह हो रहा है. रिपोर्ट के अनुसार पिछले कुछ दशकों के दौरान भारत में बाल विवाह की दर में कमी आई है लेकिन बिहार, बंगाल और राजस्थान में यह प्रथा अब भी जारी है.

यूनिसेफ की रिपोर्ट के अनुसार गरीबी, लड़कियों की शिक्षा का निम्न स्तर, लड़कियों को आर्थिक बोझ समझना, सामाजिक प्रथाएँ एवं परंपराएँ बाल विवाह के प्रमुख कारण हैं.

सहगल फाउंडेशन की प्रोग्राम लीडर सोनिया चोपड़ा ने बताया कि बचपन एक्सप्रेस सीरीज़ यूनिसेफ़ और कम्युनिटी रेडियो एसोसिएशन का यह एक अभिनव प्रयास है जिसे सामुदायिक रेडियो स्टेशनों के जरिए समाज के उस वर्ग तक संदेश पहुंचाने की कोशिश की जाएगी जहां बाल विवाह जैसी कुरीति व्याप्त है और इसे रोकने के लिए ही इसकी शुरूआत की जा रही है.

READ:  49.4 crore people defecate in the open across the world