मोदी सरकार की विफलताओं से जनता का ध्यान भटकाने के लिए मीडिया फिर आयोध्या की ओर ?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk

भारत में कोरोना वायरस के मामलों में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा रहा है । देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस से 5,609 नए मामले सामने आए हैं और करीब 132 लोगों की मौतें हुई हैं। गुरुवार को जारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, देशभर में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर करीब 112359 हो गए हैं और कोविड-19 से अब तक 3435 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना के कुल 112359 केसों में 58802 एक्टिव केस हैं, वहीं 45299 लोगों को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है या फिर वह ठीक हो चुके हैं।

कोरोना संकट की वजह से देश के मज़दूरों का बुरा हाल है । शहरों से लाखों मज़दूर अपने-अपने घरों को पैदल ही लौट रहे हैं । शहरों से गांव की ओर लौट रहे प्रवासी मज़दूर लगातार सरकार की नाकामी के चलते अपनी जान भी गंवा रहे हैं । एक रिपोर्ट के अनुसार, देश में अब तक 350 से अधिक मज़दूर अपनी जान से गवा चुके हैं ।

कोरोना संकट ने केंद्र सरकार की कई असफलताओं को उजागर किया है। नेतृत्व क्षमता से लेकर कोरोना की समस्या की गंभीरता को समझते हुए ठोस रणनीति बनाने में विफलता जैसी कई ऐसी कमियाँ हैं जो पिछले दो महीनों में उभरकर हम सबके सामने आ गई हैं।

वहीं, कोरोना संकट से लड़ने में विफल हो चुकी मोदी सरकार को बचाने के लिए मीडिया ने फिर अपना खेल शुरू कर दिया है । जनता का ध्यान प्रवासी मज़दूरों की ओर से हटाकर कैसे सरकार की गिरती साख को बचाया जाए इसलिए मीडिया ने जनता का ध्यान फिर आयोध्या की तरफ करने की कोशिश शुरू कर दी ।

ALSO READ:  जो लोग क्वारंटीन में नहीं रहेंगे, उन्हें जेल में डाल देंगे !

आज मीडिया में अधिकतर बहस और चर्चा का केंद्र रामजन्मभूमि परिसर में राममंदिर निर्माण के दौरान की जा रही खुदाई में मंदिर के प्राप्त अवशेष पर होगी। रामजन्मभूमि परिसर के पुराने गर्भगृह स्थल के समतलीकरण का कार्य श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की देखरेख में 11 मई से चल रहा है। 

समतलीकरण के कार्य में अब तक खुदाई के दौरान मंदिर के अवशेष सहित विभिन्न कलाकृतियां, आमलक व विभिन्न प्रकार के पत्थर मिले हैं। इनमें  देवी-देवताओं की खंडित मूर्तियां, पुष्प, कलश और शिवलिंग भी शामिल हैं। 

रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि अयोध्या में भावी मंदिर के निर्माण के लिए भूमि के समतलीकरण एवं पुराने गैंग-वे को हटाने का काम जारी है। कोरोना महामारी के संबंध में समय-समय पर जारी निर्देशों का पालन करते हुए मशीनों का उपयोग एवं सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजेशन, मास्क समेत अन्य सभी सुरक्षा उपायों का प्रयोग किया जा रहा है। 

मालूम हो कि लॉकडाउन के बीच अयोध्या में मंदिर का काम जारी है। चम्पत राय, विमलेंद्र मौहन प्रताप मिश्र, डॉ अनिल मिश्र श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अन्य ट्रस्टी की मौजूदगी में यह कार्य हो रहा है।

ज़ाहिर है कि कोरोना संकट ने मोदी सरकार को रोज़गार, स्वास्थ्य एवं आहार तीनों मोर्चों पर बुरी तरह से बेपर्दा कर दिया है। लेकिन क्या उम्मीद की जा सकती है कि वह इनसे कोई सबक सीखेगी और कोरोना संकट ख़त्म होते ही इन्हें भूल नहीं जाएगी। वास्तव में ज़रूरत तो इस बात की है कि रोज़गार, स्वास्थ्य और शिक्षा मामलों में सरकार अपनी नीतियों को पलटे और सामाजिक सुरक्षा बढ़ाने के लिए ठोस रणनीति बनाए।

ALSO READ:  कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने नोएडा के कई लोगों को दी थी पार्टी, सभी खौफ में

वहीं, देश की मीडिया ने पहले जमातियों पर कोरोना का ठीकरा फोड़ कर सरकार की नाकामी को छिपाने की तमाम कोशिश की मगर ये पैतरा भी चल न सका । अब आयोध्या का जिन फिर निकल आया है । अब इस मुद्दे पर सरकार की नाकामी से जनता कान को मीडिया लगातार डायवर्ट करने की कोशिश करेगी …

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.