Home » इंटरनेशनल कम्युनिटी के रवैये से बहुत मायूस हो गया हूं:इमरान

इंटरनेशनल कम्युनिटी के रवैये से बहुत मायूस हो गया हूं:इमरान

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि वो इंटरनेशनल कम्युनिटी के रवैये से बेहद मायूस हुए हैं. सिक्योरिटी कॉन्सिल ने कशमीर पर सही तरीक़े से अपना काम नहीं किया जिसके चलते कश्मीर के आज ये हालात बने हुए हैं

  • ग़रीब और विकासशील देशों के भ्रष्ट लोग मनी लॉन्ड्रिंग करते हैं
  • मुस्लिम देशों को कश्मीर के लिए एकजुटता से आवाज उठानी होगी.
  • मैंने ट्रम्प और बोरिस जॉनसन से कश्मीर मसला हल कराने को कहा है.

न्यूयॉर्क में एक न्यूज़ कांफ्रेस करते हुए इमरान ने कहा कि कश्मीर से जब तक कर्फ्यू को हटा नहीं लिया जाता तब तक वो भारत से कोई बात-चीत नहीं करेंगे. मैं यहां इसी लिय आया हूं ताकि दुनियां को बता सकूं कि कश्मीर में क्या हो रहा है. इमरान खान ने कहा, “हमें नहीं पता कि कश्मीर से कर्फ्यू हटा लिए जाने के बाद क्या होगा, लेकिन मुझे नरसंहार की आशंका है. 8 मिलियन लोग कश्मीर में कैद हैं, इससे बड़ी रियासती दहशतगर्दी क्या होगी. यह दुनिया के लिए अपनी भूमिका निभाने का समय है, इससे पहले कि बहुत देर हो जाए”.

क्या पाकिस्तान में आया भूकंप भारत के लिय एक चेतावनी?

इमरान ने यह भी कहा कि क्यूबा संकट के बाद पहली बार पाकिस्तान और भारत दो परमाणु शक्तियां आमने- सामने हैं. अगर दोनों परमाणु देशों के बीच युद्ध होता है तो इसका असर पूरे ख़ित्ते पर पड़ेगा. इमरान ने आगे कहा कि बदक़िस्मती से भारत में पिछले 6 सालों से नस्ल परस्त जमात सत्ता पर क़ाबिज़ है. आरएसएस जैसी जमातों पर आतंकवादी संगठन होने के लिए कई बार प्रतिबंध भी लगाया जा चुका है.

जानिए कौन है ग्रेटा थनबर्ग जिसने विश्वभर के नेताओं को सुना दी खरी-खोटी

READ:  Pakistani journalist Aroosa Alam says 'will never visit India again'

इमरान ने आगे कहा कि संयुक्त राष्ट्र के 11 प्रस्तावों में कश्मीर को एक विवादित क्षेत्र माना गया है. संयुक्त राष्ट्र ने कश्मीर से संबंधित 11 प्रस्तावों को पारित किया गया है. कश्मीर में हालात बहुत ही ख़तरनाक होते जा रहे हैं. पिछले पचास दिनों से कश्मीर की खबरों का पूरी तरह से ब्लैक आउट है और सभी सियासी नेताओं को जेल में डाल दिया गया है.

आयुष्मान योजना के तहत कानपुर के कार्डियोलॉजी में बच रही ग़रीबों की जान

इमरान ने कहा कि अगर कर्फ्यू हटा दिया गया तब कश्मीरियों की प्रतिक्रिया कैसी होगी? क्या वे भारत सरकार के इस क़दम के खिलाफ चुप रहेंगे? कश्मीरियों के साथ जानवरों जैसा बुरा सुलूक किया जा रहा है. मोदी ने कश्मीर में 9 मिलियन से अधिक भारतीय सैनिक तैनात कर रखा है. भारत में चरमपंथी पार्टी का शासन है जो मुस्लिमों को ख़त्म करना चाहती है. कश्मीर में कर्फ्यू हटते ही वहां क़त्लेआम की पूरी आशंका है.

मैनेजमेंट रोज़ पाकिस्तान-इस्लाम से संबंधित डिबेट रखने के लिय दबाव डालता है!

इमरान ने यह भी कहा कि कश्मीर में हिंदू आबादी को कोई परेशानी नहीं हो रही है. केवल मुस्लिम बहुल्य क्षेत्रों में ही अधिक सेना लगा रखी है. जैसे ही कश्मीर से कर्फ्यू हटा, मोदी भी स्थिति को संभाल नहीं पाएंगे. इमरान ने तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगान का कश्मीर के हक़ में बोलने के लिए शुक्रिया अदा किया और बताया कि अगले माह वो पाकिस्तान आ रहे हैं.

मोदी सरकार ने की 1609 करोड़ की मीडिया फंडिंग, दैनिक जागरण को मिले 100 करोड़

इमरान ने कहा कि न्यूयॉर्क में राष्ट्रपति ट्रम्प, जर्मन चांसलर और अन्य विश्व नेताओं से मिला, मैंने राष्ट्रपति ट्रम्प और बोरिस जॉनसन से कश्मीर मसला हल करने के लिए बात की है. इमरान ने यह भी कहा कि वह अब ईरान की समस्या के बारे में बात नहीं कर सकते, और ट्रम्प से मिलने के तुरंत बाद, मैं राष्ट्रपति रूहानी से भी मिला.

READ:  Pakistan continues to be on the grey list, including Turkey

सरकार ने 16 फीसदी तक बढ़ा-चढ़ाकर पेश किए बाघों की संख्या के आंकड़े

इमरान ने आगे कहा कि मोदी सरकार कश्मीर में डैमोग्राफिक बदलाव करना चाहती है. 80 मिलियन कश्मीरी खुली जेल में हैं, जहां उनपर रोज़ जुल्म जारी है. भारत ने पुलवामा हमले पर सबूत मांगने के जवाब में हमपर बमबारी की. भारत ने पायलट का छोड़ा जाना अमन का पैग़ाम नहीं हमारी कमज़ोरी समझा.

GST काउंसिल बैठक: किन चीज़ों पर मिली राहत, क्या हुआ मंहगा

इमरान ने कहा कि ग़रीब और विकासशील देशों के भ्रष्ट लोग मनी लॉन्ड्रिंग करते हैं और अमीर देशों में संपत्ति बनाते हैं. यही कारण है कि अमीर देश गरीब देशों के अधिकारों की आवाज़ नहीं उठाते हैं. कर्फ्यू और प्रतिबंधों से कश्मीर में आज़ादी की मुहिम को और मज़बूती मिलेगी. मुस्लिम देशों को कश्मीर में मुसलमानों के साथ अपनी एकजुटता के लिए आवाज उठानी होगी.