Home » ट्रंप की धमकी के बाद सरकार ने अमेरिका सहित कई देशों को भेजी हाइड्रोक्लोरोक्वीन..भारत में हुआ शॉर्टेज

ट्रंप की धमकी के बाद सरकार ने अमेरिका सहित कई देशों को भेजी हाइड्रोक्लोरोक्वीन..भारत में हुआ शॉर्टेज

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report । Newsdesk

ट्रंप की सीधी धमकी के बाद मोदी सरकार ने तुरंत ही मलेरिया रोधी दवा हाइड्रोक्लोरोक्वीन (Hydroxychloroquine) के निर्यात से प्रतिबंध हटा कर कई देशों को हाइड्रोक्लोरोक्वीन भेजने की अनुमति देने के बाद देश में इस दवा की कमी के मामले आना शुरू हो गए हैं।

ताज़ा मामला राजस्थान से सामने आया है । राजस्थान में सरकार को 300 एमजी टैबलेट का पूरा स्टॉक वापस लौटाने के लिए मजबूर किया है । इंटरनेशनल बिजनेस टाइम्स (ITB) में छपी एक ख़बर के अनुसार राजस्थान सरकार ने 200/400 एमजी टैबलेट्स के 25 फीसदी स्टाक को वापस भेज दिया है । बता दें कि हाइड्रोक्लोरोक्वीन का इस्तेमाल कोरोना के इलाज के लिए बड़े पैमाने पर किया जा रहा है। मोदी सरकार की ये दरियादिली भारत को भारी न पड़ जाए। लोग अब इस मामले के सामने आने का बाद मोदी सरकार पर सवाल खड़े कर रहे हैं।

राजस्थान के कांग्रेस नेता अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार ने कोरोना वायरस के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए इस दवा का स्टाक अपने पास ही रखा था । प्रदेश सरकार का कहना है कि इस दवा का इस्तेमाल उन मरीज़ों के लिए हो रहा था जो काफी सीरियस हालत में है । हाइड्रोक्लोरोक्वीन का प्रमुखता से इस्तेमाल मलेरिया के मरीज़ों के लिए किया जाता है । साथ ही इस दवा का इस्तेमाल गठिया के रोग में भी किया जाता है । कोरोना के कहर के चलते इस दवा की मांग तेज़ी से बढ़ी की इसकी आपूर्ति में भारी कमी होती दिख रही है ।

इस मामले में राजस्थान की पत्रकार तबीना अंजुम ने एक ट्विट कर लिखा, ‘जयपुर में हाइड्रोक्लोरोक्वीन की एक भी गोली मौजूद नहीं है। अगर कोरोना के मरीज़ों के इलाज के लिए इसकी ज़रूरत पड़ी तो हाइड्रोक्लोरोक्वीन नहीं मिल सकती है । गठिया के मरीज़ हाइड्रोक्लोरोक्वीन से वंचित हो रहे हैं। सारा स्टॉक कहां गया? और फिर आप भारत को ट्रंप के सामने घुटने टेकते हुए देखते हैं।

READ:  Travel 2021: सुंदर वादियों के बीच लें सनसेट-सनराइज का मजा, इन जगहों पर करें हॉलिडे प्लान

इंटरनेशनल बिजनेस टाइम्स ITB में छपी ख़बर के अनुसार 56 इंच वाले मोदी जी ने ट्रंप की धमकी के आगे घुटने टेकते हुए दवा की निर्यात की अनुमति दे दी। आपको बताते चलें कि इससे पहले भारत ने 26 फार्मास्यूटिकल सामग्रियों के निर्यात और उनसे बनी दवाओं को कोरोना को देखते हुए इस पर प्रतिबंध लगा दिया था । इसके बाद अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ने सीधी धमकी देते हुए कहा कि अगर भारत ने इन दवाइयों को अमेरिका को नहीं दिया तो वो इसका जवाब देंगे।

ट्रंप की धमकी के चंद घंटो बाद ही 56 इंच वाली मोदी सरकार ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि भारत कोरोना प्रभावित देशों को हाइड्रोक्लोरोक्वीन की आपूर्ति करेगा। भारत सरकार द्वारा जारी इस बयान में कहा गया कि कोरोना महामारी से जूझ रहे पड़ोसी मुल्कों को ये दवा भेजी जाएगी।

READ:  जिग्नेश मेवानी ने किन कारणों से जॉइन नहीं की कांग्रेस?

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुक, ट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।