Home » Coronavirus होने पर घर पर रहकर कैसे इलाज करें?

Coronavirus होने पर घर पर रहकर कैसे इलाज करें?

Coronavirus: covid1-9 cure Coronaviurs at home
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

How to treat coronavirus at home?: देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर तीव्रता के साथ लोगों को अपनी चपेट में ले रही है। ऐसे में कोरोनावायरस होने की स्थिति में घर पर रहकर कैसे इलाज करें आये जानते है। यह संक्रमण एक से दूसरे और दूसरे से तीसरे में बहुत तेजी से फैल रहा है। ऐसे में कोरोना केस के मामलों में तेजी से बढ़ोत्तरी हो रही है ऐसी स्थिति में कोरोना के गंभीर मरीज को अस्पताल में भर्ती करना पड़ता है लेकिन जब कोरोना के हल्के या मध्यम लक्षण हो तो ऐसे में आप अपने घर पर रहकर (How to treat coronavirus at home?) ही इसका इलाज कर सकते हैं। इसे हम होम आइसोलेशन (Home Isolation) के तौर पर ही देखते है। होम आइसोलेशन (Home Isolation) के दौरान मरीज खुद को घर के अंदर रहकर बाकी सदस्यों से अलग और दूरी बना कर अपना ट्रीटमेंट करते हैं। तो आइए जानते हैं कि कोरोना वायरस होने पर मरीज घर पर रहकर (How to treat coronavirus at home?) किस प्रकार अपना ट्रीटमेंट कर तेजी से रिकवरी कर सकते हैं।

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

होम आइसोलेशन के लिए जरूरी नियम (Home Isolation rules)- 
होम आइसोलेशन (Home Isolation) के दौरान कोरोना के मरीज को घर में अलग और हवादार कमरा में रखना चाहिए । इसके साथ ही मरीज के लिए एक अलग टॉयलेट यूज करने के लिये होना चाहिए। कोरोना मरीज की देखभाल करने के लिए 24 घंटे किसी ना किसी को होना चाहिए। यदि होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज के लक्षण गंभीर दिखाई देने लगे तो उसे अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी जाती है।   

होम आइसोलेशन में मरीज को क्या करना चाहिए (What should the patient do in home isolation)- 
कोरोना वायरस के मरीज को अपने कमरे की खिड़कियों को खुला रखना चाहिए। साथ ही मरीज को  तीन लेयर वाला मास्क पूरे समय पहनना चाहिए और इसे हर 6-8 घंटे में बदलते रहना चाहिए. साथ ही साथ हाथ को साबुन और पानी से 40 सेकेंड तक धोना चाहिए। आप कोशिश करें की ज्यादा छूई जाने वाली सतह को न छुयें। कोरोना के मरीजों को अपने बर्तन, तौलिया, चादर कपड़े आदि अपने इस्तेमाल में लाये गये  सामान को बिल्कुल किसी और को इस्तेमाल ना करने दें और इन्हें अलग से व्यवस्थित रखें।

READ:  10-day quarantine for UK visitors to India

कोरोना का इलाज: अगर रिपोर्ट पॉजिटिव भी आई है तो डरने की नहीं समझदारी की जरूरत है

होम आइसोलेशन: दवाईयां नियमित लें, मादक पदार्थों का सेवन बिल्कुल भी न करें (Home isolation: Take medicines regularly, do not consume drugs at all)-
घर में रह रहे  कोरोना मरीजों को दिन में दो बार अपने बुखार और ऑक्सीजन के स्तर की जांच करवानी चाहिए । अगर आपको पहले से ही कोई अन्य और बीमारी है तो उसका भी इलाज साथ-साथ जारी रखना चाहिए । कोरोना के मरीजों को आइसोलेशन के दौरान बिल्कुल भी शराब, स्मोकिंग या फिर किसी भी नशीली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए । कोरोना मरीजों को डॉक्टर द्वारा दी गयी सलाह का पालन करना चाहिए और नियमित रूप से दवाइयां लेते रहना चाहिए।   

होम आइसोलेश के दौरान कैसी हो कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की डाइट (coronavirus patients diet during home isolation)- 
कोरोना के मरीजों को अपने डाइट में घर पर बना सादा और ताजा पौष्टिक भोजन करना चाहिए। साथ ही मौसमी, नारंगी और संतरा जैसे ताजे फलों और बीन्स, दाल जैसी प्रोटीन से युक्त आहार लेना चाहिए । खाने में अदरक, लहसुन और हल्दी जैसे मसाले का प्रयोग करें। भरपूर मात्रा में पानी पिये  लगभग 8-10 गलास पानी रोजाना पिएं। लो फैट वाला दूध और दही सेवन करना चाहिए। जो लोग नॉनवेज खाते है उन्हें स्किनलेस चिकन, मछली और अंडे का सफेद भाग खाना में लेना चाहिए. ध्यान में रखें कि कुछ भी खाने से पहले आप उसे अच्छी तरह से धो लें. कोरोना के मरीजों को ऐसा खाना अपने डाइट में शामिल करना चाहिए जो कम कॉलेस्ट्रॉल वाले खाद्य पदार्थ लेना चाहिए।

Coronavirus Treatment at Home: मध्य प्रदेश के इन 7 शहरों में पहुंची ‘घातक लहर’, देखें कोरोना का इलाज घर पर कैसे करें?

कोरोना के मरीज क्या नहीं खाएं (Coronavirus patients should not eat this)- 
कोरोना के मरीजों को खाने में मैदा, तला हुआ खाना या जंक फूड नहीं सेवन करना चाहिए। चिप्स, पैकेट जूस, कोल्ड ड्रिंक, चीज़, मक्खन, मटन, फ्राइड, प्रोसेस्ड मीट और पाल्म ऑयल जैसे चीजों से दूर रहना चाहिये जो आपके शरीर में अनसैचुरेटेड फैट्स को बढ़ाता है। अण्डे का पीला भाग हफ्ते में एक बार ही खाना चाहिए और यदि आप नॉनवेज लेते हो तो आपको हफ्ते में दो से तीन बार से ज्यादा ना खाएं।  

READ:  Indians donated 43% more during Covid pandemic in 2020: Survey

होम आइसोलेशन कितने दिन का होता है (How long is the home isolation?)-
आम तौर पर होम आइसोलेशन की अवधि 14 दिनों तक ही रहती है। अगर मरीज को आखिरी 10 दिनों में बुखार या कोरोना के अन्य कोई लक्षण नहीं दिखाई देते हैं, तो वे डॉक्टर से परामर्श लेकर अपना होम आइसोलेशन खत्म कर सकते हैं।

VIDEO: क्या आपको भी सता रहा है कोरोना वायरस होने का डर, देखें इससे जुड़े सवालों के जवाब

कोरोना के मरीज ध्यान में रखें ये बात (Corona patients should keep this in mind)- 
कोरोना वायरस मरीजों को ना सिर्फ शारीरिक तौर पर बल्कि उनके मानसिक स्तर को भी कमजोर कर देता है। इसलिए उपचार के दौरान मरीजों को अपनी मानसिक सेहत पर पूरा ध्यान रखना चाहिए। होम आइसोलेशन के दौरान आप अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से फोन और वीडियो कॉल के जरिए संपर्क में रह सकते हैं। इस अवस्था के दौरान आप अपनी पसंदीदा म्युजिक सुने और किताबें पढ़ें। आप चाहें तो मोबाइल पर अपने पसंदीद शो देखने के साथ कुछ हल्के-फुल्के गेम भी थोड़े समय के लिए खेल सकते हैं। ध्यान रखें कि आप खुद पर बहुत ज्यादा दबाव ना डालें और जितना हो से आराम करें।  

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।