how to cure coronavirus if tested positive

कोरोना का इलाज: अगर रिपोर्ट पॉजिटिव भी आई है तो डरने की नहीं समझदारी की जरूरत है

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोना का इलाज (How to cure corona) संभव है। अगर रिपोर्ट पॉजिटिव भी आ गई है तो इससे घबराने की नहीं बल्कि समझदारी दिखाने की जरूरत है। कोरोना वायरस लगातार बढ़ता जा रहा है इतना ही नहीं इसका चरित्र काफी विचित्र होता जा रहा है। जो बीमारी कभी भारत में नाममात्र की थी आज वह विकराल रूप धारण करता जा रहा है। कोरोना क्या है इसके मुख्य कारण क्या है और कैसे मनोवैज्ञानिक रूप से कोरोना असर दिखा रहा। इन्हीं सब पहलू पर रोशनी डाली है डॉक्टर मधुदुन उपाध्याय ने। उन्होंने बताया कि हमारे शरीर में एक रक्षक प्रणाली होती है जिसे इम्यून सिस्टम कहते हैं।

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

इम्यून सिस्टम हमारे शरीर पर आने वाले खतरों से सचेत करता है और लड़ता है। जिसका इम्यून सिस्टम जितना मजबूत होता है वह बीमारी से बचा रहता है। लेकिन कोविड 19 में जिन लोगों की मौतें हुई है उनमें से अधिकांश का इम्यून सिस्टम बहुत तेज़ी से काम कर के शरीर में जरुरत से ज़्यादा हार्मोन या कहे वह चीज जो शरीर को नियम तथा नियंत्रण में रखती है उसे अधिक मात्रा में बन जाने से रोगियों की मौत हो रही है। इस स्थिति को cytokine burst कहते हैं।

क्या भारत में लगने वाला ये टीका है कोरोना का इलाज ? कई देशों ने शुरू किया ह्यूमन ट्रायल

कोविड 19 शरीर से ज़्यादा मनोवैज्ञानिक बीमारी है जिसका असर शरीर पर पड़ता है। यही नहीं आजकल मधुमेह ,अवसाद , इन्फ्लूएंजा जैसी भी बीमारियो के पीछे अपराधबोध चिंता ज्वलनशीलता जैसी समस्याएं है। बीमारियां मनोदैहिक, दिमाग से उत्पन हुई हो गई है। डॉक्टर श्री उपाध्याय ने बताया कि शरीर की समस्थैतिकता के बारे में बताते हुए कहते है की हर शरीर अपना निश्चित सन्तुलन बनाए रखने की क्षमता रखता है ,जब लोग नकारात्मक खबरों पर ध्यान देने लगते है तो मन में डर पैदा होता है और डर का प्रभाव शरीर पर होता है।

राहत भरी खबर, FabiFlu से कोरोना संक्रमितों के हल्के और मध्यम लक्षणों का इलाज

उन्होंने यह भी कहा की कोरोना से अधिकतर मौत घर पर नहीं हॉस्पिटल में हुई है। हॉस्पिटल के खराब हलातों पर उन्होंने कहा की यह चिंताजनक है पर डॉक्टरों पर अधिक दवाब और इसकी कोई सटीक दवाओं के ना होने की वजह से स्तिथि ज़्यादा गंभीर है। डॉक्टर साहब शरीर में जमे हुए कॉफ (Cough) को भी करोना के लिए ज़िम्मेदार बताते हैं। उनका कहना है की सिर्फ अपने शरीर की मारक शक्ति बड़ाने से कुछ नहीं होगा, अंदर के कफ का भी ईलाज ज़रूरी है। हल्दी, गिलोय शरीर को मजबूत बनाती है और काली मिर्च काढ़ा में डालना गर्म पानी पीना बेहद लाभदायक है।

Patanjali Coronil: बाबा रामदेव की दवा से 3 दिन में कोरोना का इलाज

डॉक्टर ने वैक्सीन आने की संभावना पर कहा कि, वैक्सीन के नवंबर तक आने की गुंजाइश है। उन्होंने कहा की इसका सही इलाज आयुर्वेद में है क्योंकि वह बीमारी को जड़ से खत्म करता है आयुर्वेद में इसका इलाज और गहराई से ढूंढने की आवश्यकता है डॉ श्री उपाध्याय कहते हैं की अगर कोरोना पॉजिटिव भी आए तो उस स्तिथि में परेशान ना हो कर सावधानी बरती जाए तो कोरोना को आसानी से हरा सकते है। सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन का पालन जरूर करें।

VIDEO: क्या आपको भी सता रहा है कोरोना वायरस होने का डर, देखें इससे जुड़े सवालों के जवाब

लेखिका गार्गी चतुर्वेदी स्वतंत्र पत्रकार और राजनीतिक विष्लेशक हैं। वे नई दिल्ली स्थित भारतीय जनसंचार संस्थान की पूर्व छात्रा हैं एवं सम-सामयिक मुद्दों पर लेखनी के माध्यम से समय-समय पर अपने विचार प्रकट करती रहती हैं

Writer Gargi Chaturvedi

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.