Home » ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने में कारगर है Proning, ऐसे करें ये क्रिया

ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने में कारगर है Proning, ऐसे करें ये क्रिया

Proning for Oxygen Level: ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने में कारगर है प्रोनिंग, ऐसे करें ये क्रिया
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

How proning increase Oxygen Level: स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि यदि समय रहते रोगी को Proning ( How proning increase Oxygen Level )दी जाये तो Proning की इस प्रोसेस के जरिए हम कई लोगों की जिन्दगी बचाने में सफल हो सकते हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक Proning ( How proning increase Oxygen Level ) की आवश्यकता उस समय पड़ती है जब रोगी को सांस लेने में कठिनाई हो रही हो और शरीर के अंदर ऑक्सीजन का लेवल 94 के नीचे चला जाए तो ऐसी अवस्था में रोगी को proning दी जानी चाहिए।

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने देश के अंदर हेल्थ इमरजेंसी लगाने के हालातों पैदा कर दिया हैं और वहीं  पूरे देश में मरीजों के लिए ऑक्सीजन की व्यवस्था को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। ऐसी विप्ता की घड़ी को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने कुछ ऐसे उपाय सुझाए हैं जिनके द्वारा हम घर पर ही अपने शरीर के ऑक्सीजन के स्तर को संतुलित कर सकते हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि Proning यानी बिस्तर पर पेट के बल लेटना, इसके के जरिए हम अपने शरीर में ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ा सकते है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी जानकारी दी है कि  Proning को मेडिकली तौर पर भी शरीर में ऑक्सीजन के लेवल को बढ़ाये जाने वाली क्रिया के रूप में मान्यता है और जो भी कोरोना रोगियों होम आइसोलेशन में रह रहे हैं उनके लिए भी यह Proning की क्रिया बहुत लाभदायक है। 

READ:  Agra: अस्पताल में ऑक्सिजन की मॉकड्रिल से 5 मिनट में 22 कोरोना मरीजों की मौत

Coronavirus, when oxygen support needed: कोरोना वायरस होने पर ऑक्सीजन सपोर्ट की जरूरत कब होती है?

Proning की क्रिया –

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार Proning की क्रिया करने के लिए सबसे पहले रोगी को पेट के बल लेटना है और फिर एक सिरहाना मुंह या गर्दन के नीचे, एक या दो सिरहाने छाती और पेट के नीचे तथा 2 सिरहाने टांगों के नीचे रखना हैं। इस क्रिया के लिए 4-5 सिरहानों की आवश्यकता पड़ेगी और साथ ही ध्यान रखे की इस क्रिया के दौरान मरीज को लगातार सांस लेते रहना है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी चेतावनी दिया है कि इस Proning की क्रिया को 30 मिनट से अधिक नहीं करना है। 

READ:  India vs Sri Lanka: लंका फतह की तैयारी में टीम इंडिया, जुलाई में होगा घमासान

साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय ने Proning को लेकर कुछ ऐसे और महत्वपूर्ण चेतावनी भी जारी किये है जिसमें बताया गया है कि इस क्रिया को भोजन करने के बाद एक घंटे तक नहीं करना है, इस क्रिया कको आप तभी करें है जब यह करना आपको आसान और आवश्यक लगे। इसके अलावा इस क्रिया को आप गर्भावस्था होने की स्थिति या हृदयघात की स्थिति में होने पर बिल्कुल ना करें है।

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।