Home » VIDEO : रिसर्च स्कॉलर्स से पुलिस की बदसलूकी, कहा ‘5 मिनट लगेंगे सारे साफ हो जाओगे’

VIDEO : रिसर्च स्कॉलर्स से पुलिस की बदसलूकी, कहा ‘5 मिनट लगेंगे सारे साफ हो जाओगे’

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली, 17 जनवरी। पिछले कई दिनों से फेलोशिप में बढ़ोत्तरी की मांग कर रहे देश भर के रिसर्च स्कॉलर्स नई दिल्ली स्थित मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सामने धरना प्रदर्शन करने पहुंचे। शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन कर रहे इन इन शोधार्थियों को पुलिस ने कई बार खदेड़ने की कोशिश की, लेकिन एकजुट इन छात्रों को पुलिस हटाने में जब नाकामयब रही तो पुलिस को बलपूर्वक इन्हें हटाना पड़ा।

अपने-अपने शोधकार्य छोड़, लेबोरेटरी से निकल अपने हक की लड़ाई लड़ने जब देश भर के रिसर्च -स्कॉलर्स सड़कों पर उतरे तो पुलिस ने कई बार उनसे बदसलूकी की। आप वीडियो में देख सकते हैं कि, पुलिस का एक जवान एक रिसर्च स्कॉलर की एप्रन पकड़ कर बलपूर्वक उसे वहां से खदेड़ते हुए कहता है कि, 5 मिनट लगेंगे सारे साफ हो जाओगे। हांलाकि इसके बाद भी ये छात्र डटे रहे लेकिन पुलिस बाद में इन्हें वहां से हटाया और तीन घंटे तक जेल में बैठाए रखा।

READ:  Kashmiri बच्ची का वीडियो देख पिघला उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा का दिल, शिक्षा विभाग को दिए ये निर्देश

ये वीडियो 16 जनवरी को नई दिल्ली स्थित MHRD का है, जहां सैकड़ों शोधार्थी फेलोशिप में वृद्धि की मांग करने पहुंचे थे। देश को ‘विश्व गुरू’ बनाने वाले और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘जय अनुसंधान’ के नारे को साकार रूप देने वाले इन रिसर्च स्कॉलर्स की बात सुनने के लिए सरकार के पास वक्त नहीं है। वहीं इनकी खबरों को प्रमुखता से दिखाने के लिए मुख्य धारा के मीडिया के पास वक्त नहीं है क्योंकि उसके लिए ज्यादा जरूरी हिन्दू-मुसलमान की डिबेट है।

बता दें कि बीते चार सालों में महंगाई का स्तर कई गुना बढ़ा है लेकिन इन छात्रों की फेलोशिप चार सालों में एक भी बार नहीं बढ़ी है। कई बार आवेदन के बावजूद भी इन्हे सिर्फ आश्वासन मिला। पिछली फेलोशिप साल 2014 में बढ़ाई गई थी।

रिसर्च फेलो की प्रमुख मांग-
1) जेआरएफ, एसआरएफ, पीएचडी कर रहे लोगों की फेलोशिप की रकम 20 फीसदी प्रतिवर्ष के हिसाब से 80 फीसदी बढ़ाई जाए। क्योंकि यह हर चार वर्ष में एक बार बढ़ती है।

READ:  अस्सलामु अलैकुम मोदी साब, छोटे बच्चों को इतना काम क्यों देते हो

2) फेलोशिप के तहत मिलने वाली यह रकम हर महीने समय पर आए, क्योंकि अब तक यह रकम कभी तीन महीने, छह महीने या कभी 8 महीने गुजर जाने के बाद मिलती है।

3) सरकार वेतन आयोग के तहत ऐसी गाइडलाइन बनाए जिससे यह तय हो कि फेलोशिप के तहत करने वाले रिसर्चर्स को हर महीने समय पर फेलोशिप की रकम मिले।